Wednesday , December 13 2017

हनीप्रीत बाबा की प्रेमिका थी, बाप-बेटी के रिश्ते का बनाया मज़ाक : पूर्व-पति

चंडीगढ़: डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह की “गोद ली हुई बेटी” हनीप्रीत के पूर्व पति विश्वास गुप्ता ने शुक्रवार को उन पर अवैध संबंध रखने का आरोप लगाया और कहा कि उनके पिता-पुत्री के रिश्ते अनुयायी और अन्य लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए थे।

गुप्ता ने बताया, “वह (हनीप्रीत) उसकी प्रेमिका थी। एक बेटी के रूप में गोद लेने के लिए कोई कानूनी औपचारिकताएं कभी नहीं हुईं।”

उन्होंने कहा, “कौन सा पिता अपनी बेटी के साथ अपने बिस्तर पर सोता है? वह हमेशा उनके साथ रहती थीं.

“वह कभी मेरे साथ सोई नहीं थी. वह हर रात, (राम रहीम) के साथ ही रहती थी। संप्रदाय के प्रमुख ने मुझे एक कैदी बना दिया और मेरी (तब की पत्नी) हनीप्रीत को मेरे पास आने की इजाजत नहीं दी,” गुप्ता ने खुलासा किया।

गुप्ता, जिनका परिवार कट्टर डेरा के अनुयायी थे, 1999 में राम रहीम के इशारे पर हनीप्रीत से शादी करली। हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है और वह हरियाणा के फतेहाबाद शहर से है। 2011 में गुप्ता तलाक के लिए अदालत में चले गए.

उन्होंने दावा किया कि उन्होंने राम रहीम और हनीप्रीत को डेरा प्रमुख के “गुफ़ा” या हरियाणा के सिरसा शहर के निकट विशाल परिसर में निजी आवास में गन्दी हरकत करते देखा।

गुप्ता ने कहा, “मैंने जो कुछ देखा था, उसके बारे में कुछ भी बोलकर बाबा ने मुझे और मेरे परिवार का सफाया करने की धमकी दी। मेरा जीवन बर्बाद हो गया था।”

गुप्ता ने कहा कि राम रहीम ने उन्हें और उनके माता-पिता को दहेज मामले में भी फसा दिया, और यहां तक कि आदेश दिए कि वह (गुप्ता) का सफाया कर दें।

गुप्ता ने दावा किया, “धमकी के बाद, मैंने अपना घर छोड़ दिया. राम रहीम के 2 गार्ड ने मुझे खत्म करने का प्लान भी बनाया था. हमने जुलाई 2011 में डेरा छोड़ा और पंचकूला में शिफ्ट हो गये। मेरे पिता ने हमारी सभी संपत्ति बेच दी और डेरा परिसर में निवेश कर दिया।”

गुप्ता शुक्रवार को मीडिया के बीच बातचीत के दौरान टूट गए और उन्होंने दावा किया कि डेरा प्रमुख ने उन्हें और उनके परिवार से जनता के बीच उनसे माफी मांगने को मजबूर किया।

हनीप्रीत 25 अगस्त के बाद से गायब हैं, राम रहीम को दो महिला अनुयायियों के बलात्कार के लिए पंचकूला में सीबीआई की विशेष अदालत ने दोषी ठहराया था। उन्हें 20 साल की सजा सुनाई गई थी और अब रोहतक के निकट सियारिया में जिला जेल में बंद है।

TOPPOPULARRECENT