Monday , June 25 2018

हमले का मन्सूबा अफ़्ग़ानिस्तान में बना और वहीं से कंट्रोल हुआ

पाकिस्तानी फ़ौज के तर्जुमान ने कहा है कि पिशावर के क़रीब बढबीर में क़ायम फ़िज़ाईया के कैंप पर होने वाले हमले की मंसूबा बंदी अफ़्ग़ानिस्तान में की गई थी और दहश्तगर्द भी वहीं से आए थे।

जुमे की सुबह पेश आने वाले इस वाक़े में 13 हमला आवरों समेत कल 43 अफ़राद हलाक हुए थे। कार्रवाई के ख़ातमे के चंद घंटे बाद जुमे की शाम ज़राए इबलाग़ के नुमाइंदों से बात करते हुए डायरेक्टर जेनरल आई एस पी आर मेजर जेनरल आसिम बाजवा ने कहा है कि दहश्तगर्दी की इस कार्रवाई को भी अफ़्ग़ानिस्तान से ही कंट्रोल किया जा रहा था।

उन्होंने हमले में हलाक होने वालों की तफ़सील बताते हुए कहा कि हमले के दौरान पाकिस्तानी फ़िज़ाईया के 23 और बर्री फ़ौज के तीन अहलकारों के इलावा फ़िज़ाईया के चार शहरी मुलाज़मीन भी हलाक हुए।

मेजर जेनरल बाजवा का कहना था कि कार्रवाई के दौरान खु़फ़ीया इदारों ने हमला आवरों की जो गुफ़्तगु सुनी इस से ये बात साबित होती है कि उनका ताल्लुक़ तहरीके तालिबान पाकिस्तान के एक गिरोह से था और ये तमाम अफ़्ग़ानिस्तान से आए थे।

TOPPOPULARRECENT