Sunday , December 17 2017

हम्मास ने ग़ाज़ा की जंग के दौरान अपना हिसाब भी बराबर किया

हुक़ूक़े इंसानी की आलमी तंज़ीम एमनेस्टी इंटरनेशनल ने फ़लस्तीनी ग्रुप हम्मास पर गुज़िश्ता बरस ग़ाज़ा में इसराईल के ख़िलाफ़ जंग के दौरान फ़लस्तीनी शहरीयों के अग़वा, उन पर तशद्दुद और उन्हें हलाक करने के इल्ज़ामात आइद किए हैं।

हुक़ूक़े इंसानी की आलमी तंज़ीम एमनेस्टी इंटरनेशनल ने फ़लस्तीनी ग्रुप हम्मास पर गुज़िश्ता बरस ग़ाज़ा में इसराईल के ख़िलाफ़ जंग के दौरान फ़लस्तीनी शहरीयों के अग़वा, उन पर तशद्दुद और उन्हें हलाक करने के इल्ज़ामात आइद किए हैं।

एमनेस्टी का कहना है कि हम्मास के कुछ इक़दामात तो जंगी जराइम के ज़ुमरे में आते हैं। इंसानी हुक़ूक़ की आलमी तंज़ीम ने बुध को जारी होने वाली अपनी रिपोर्ट में 20 ऐसे वाक़ियात का ज़िक्र किया है जो बाक़ौल उस के हम्मास की जानिब से मावराए अदालत क़त्ल के हैं।

एमनेस्टी का कहना है कि तशद्दुद का निशाना बनने वाले ज़्यादा तर अफ़राद का ताल्लुक़ हम्मास के मुख़ालिफ़ गिरोह अल फ़तह से था। तंज़ीम के मुताबिक़ एक ऐसे वक़्त में जब ग़ाज़ा पर इसराईली हमलों से बड़े पैमाने पर आम शहरी हलाक हो रहे थे, हम्मास इस मौक़ा से फ़ायदा उठा कर अपना हिसाब बराबर करने में मसरूफ़ थी।

TOPPOPULARRECENT