हम जिन्ना के लिए धरने पर नहीं बैठे- AMU छात्र संघ

हम जिन्ना के लिए धरने पर नहीं बैठे- AMU छात्र संघ
Click for full image

पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने छात्रों के आंदोलन का समर्थन किया है और कहा है कि छात्र अपना आंदोलन शांतिपूर्वक चला रहे हैं, साथ ही किसी तरह का एकेडमिक व्यवधान नहीं कर रहे हैं। वहीं पूरे घटनाक्रम को लेकर न्यायिक जांच की मांग की गई है।

छात्र संघ अध्यक्ष ने कहा कि पूर्व उपराष्ट्रपति के पत्र को केंद्र और राज्य सरकार माने और न्यायिक जांच कराए, जो आरोपी हैं उन्हें सजा मिलनी चाहिए।

छात्रसंघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी ने कहा कि पत्र मिलने के बाद पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी से बात भी हुई है, मशकूर ने कहा कि इस देश की व्यवस्था इतनी चरमरा गई है कि पूर्व उपराष्ट्रपति पर अटैक की योजना बनाई जाती है, क्योंकि वह अल्पसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखते हैं, मशकूर ने बताया कि इससे पहले भी हामिद अंसारी को टारगेट किया गया था।

मशकूर अहमद उस्मानी ने बताया कि 12 मई को ही यह लेटर इसलिए भेजा गया क्योंकि आज कर्नाटक का चुनाव खत्म हुआ है। मशकूर ने कहा कि एएमयू को लेकर पूरा मीडिया ट्रायल हुआ, हम जिन्ना के लिए धरने पर नहीं बैठे थे, हम पूर्व उपराष्ट्रपति पर जो हमला करने की फिराक में थे इसके लिए न्याय की मांग कर रहे हैं।

मशकूर ने बताया कि पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कर्नाटक चुनाव के बाद छात्र संघ को पत्र लिखा है क्योंकि चुनाव में किसी तरह का कोई कम्युनल एंगल न आए।

कोई ध्रुवीकरण न करे, इसलिए चुनाव के बाद पत्र लिखा है। वे किसी तरह की सियासत नहीं चाहते थे। मशकूर ने कहा कि इस देश को आरएसएस और संघवाद से आजाद करने की जरुरत है।

Top Stories