Saturday , December 16 2017

हम बीजेपी के साथ जाकर राजनीतिक आत्महत्या नहीं कर सकते: बदरुद्दीन अजमल

दिसपुर :असम विधानसभा चुनाव के गणित में मौलाना बदरुद्दीन अजमल किंगमेकर की भूमिका में आ सकते हैं। उनकी पार्टी यूडीएफ विधानसभा की 126 में से 60 सीटों पर चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। मौलाना अजमल ने कहा कि उनकी तैयारी पूरी है। उन्होंने कहा कि इस बार का चुनाव वे आधुनिक और वैज्ञानिक ढंग से लड़ेंगे।इस मामले में सबसे पहले नीतीश कुमार ने कोशिश की, प्रशांत (किशोर) ने भी कोशिश की लेकिन राज्य की कांग्रेस सरकार इस मामले में अड़ी हुई है कि उन्हें किसी से गठबंधन नहीं करना है। इसकी बड़ी वजह कांग्रेस के एक मुसलमान मंत्री हैं जिन्हें डर है कि अगर अजमल का, यूडीएफ का ग्राफ बढ़ता है तो उनका वजूद खत्म हो जाएगा। इसलिए वह यह गठबंधन नहीं होने देना चाहते।हालांकि हम चाहते थे कि किसी तरह यह गठबंधन हो जाता तो दोनों पार्टियों को फयदा होता और बीजेपी को सीधा नुकसान।मुख्यमंत्री से कोई मतभेद नहीं है लेकिन सरकार के एक मुसलमान मंत्री हमसे निजी दुश्मनी पाले बैठे हैं। वे वन मंत्री थे तो उन्होंने हमारे व्यवसाय को बर्बाद कर दिया और आज भी वह हमें ख़त्म करने पर आमादा हैं।

हम कांग्रेस से गठबंधन के लिए बिल्कुल तैयार हैं लेकिन छोटी पार्टी होने के नाते हम कांग्रेस के पास नहीं जा सकते, बड़ी पार्टी को ही पहल करनी होती है।ऐसे आरोप सिर्फ कांग्रेस लगा रही है, जो बिल्कुल बेबुनियाद हैं। लोगों ने हमें तीन सांसद दिए हैं, 18 विधायक दिए हैं तो क्या अब हम बीजेपी के साथ जाकर राजनीतिक आत्महत्या कर लें। हम ऐसा नही कर सकते ,वैसे चाहे गठबंधन हो या न हो एक बात तो तय है कि बीजेपी कितनी भी कोशिश कर ले असम में वह सत्ता में नहीं आएगी।हकीकत यह है कि राज्य में हमारी सीधी टक्कर कांग्रेस से है क्योंकि हमारे यहां बीजेपी का वोट ही नहीं है

 

TOPPOPULARRECENT