हम भारतीय उपयोगकर्ता के आधार डेटा को इकट्ठा नहीं कर रहे हैं: फेसबुक

हम भारतीय उपयोगकर्ता के आधार डेटा को इकट्ठा नहीं कर रहे हैं: फेसबुक
Click for full image

नई दिल्ली: फेसबुक द्वारा भारत में नए यूजर्स से अपने आधार कार्ड में लिखे गए नाम डालने को कहने के एक दिन बाद सोशल मीडिया दिग्गज ने गुरुवार को कहा कि वह लोगों के आधार आंकड़ों को इकट्ठा नहीं कर रहे है।

फेसबुक ने कहा कि उसने एक छोटा सा परीक्षण किया था, जिसमें यूजर्स को अपना असली नाम चुनने में मदद के लिए आधार नंबर में दर्ज नाम डालने की सलाह दी गई थी, ताकि वे अपने मित्रों और परिजनों से आसानी से जुड़ सकें।

कंपनी ने एक बयान में कहा, “कुछ लोगों ने इस परीक्षण की व्याख्या लोगों की आधार से जुड़ी जानकारियां इकट्ठी करने से की है.. जो सही नहीं है।”

बयान में कहा गया, “यह परीक्षण जो अब पूरा हो चुका है, इसमें खाता खोलने के लिए एक अतिरिक्त भाषा का विकल्प जोड़ा गया था तथा मित्रों और रिश्तेदारों द्वारा आसानी से पहचाने जाने के लिए आधार कार्ड में दर्ज नाम डालने की सलाह दी गई थी।”

फेसबुक ने हालांकि इस परीक्षण के तहत यूजर्स के आधार नंबर की मांग नहीं थी।

फेसबुक के भारत में 21.7 करोड़ से ज्यादा मासिक सक्रिय यूजर्स हैं, जबकि दुनिया भर में कुल 2.1 अरब मासिक सक्रिय यूजर्स हैं।

फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप में भारत में 200 मिलियन से अधिक मासिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं।

फेसबुक का परीक्षण उस समय आया जब सरकार नागरिकों से अपने डिजिटल जीवन के साथ आधार विवरण जोड़ने के लिए कह रही है।

सरकार ने हाल ही में 31 मार्च 2018 तक, बैंक खातों, पैन, मोबाइल नंबर और कई अन्य योजनाओं के साथ आधार जोड़ने के लिए समय सीमा तय की है।

Top Stories