Monday , December 18 2017

हरियाणा में फिर चिन्ता ‘जाट समुदाय की मोहलत समाप्त

चंडीगढ़: हरियाणा में एक बार फिर चिन्ता पैदा हो गई है क्योंकि जाट समुदाय की तरफ‌ से कोटा मांग पर कल से विरोध करने के लिए उन्होंने 72 घंटे की जो मोहलत दी थी वह कल‌ रात समाप्त हो रही है। अर्ध सैनिक बलों और पुलिस को संवेदनशील जिलों में निर्धारित कर दिया गया है और उनकी ओर से विभिन्न स्थानों पर फ्लैग मार्च किया जा रहा है।

विभिन्न जाट संगठनों ने राज्य में भाजपा नीत सरकार को कोटा मांग की पूर्ति के लिए 72 घंटे की मोहलत दी थी जो कल‌ रात समाप्त हो रही है। जाट संगठनों ने सोमवार को चेतावनी दी थी कि अगर मनोहर लाल खत्री सरकार की ओर से आज तक उनकी मांगों की एकाग्रता नहीं की गई तो वह अपना कोटा विरोध फिर से शुरू करेंगे।

कोटा विरोध के कारण पिछले महीने राज्य दहल कर रह गया था और इस विरोध में वाक्यांश 30 लोग मारे गए थे। केंद्र सरकार ने राज्य को अर्धसैनिक बलों की 80 कंपनियां भेजी हैं जिन्हें संवेदनशील क्षेत्रों जैसे रोहतक और झज्जर जिलों में निर्धारित किया जा रहा है। इस जिलों में पिछले महीने विरोध के पहले चरण में गंभीर प्रभावित रहे थे।

सेक्यूरिटी स्टाफ की ओर से विभिन्न स्थानों पर फ्लैग मार्च किया जा रहा है ताकि जनता में विश्वास बहाल किया जा सके क्योंकि पिछले महीने प्रदर्शन के दौरान बड़े पैमाने पर आगजनी और हिंसा के घटनाएं हुई। आईजी रोहतक रेंज संजय कुमार ने कहा कि हमारे पास अर्धसैनिक बल पहुंच चुके हैं।

पुलिस भी सतर्क है और हम ला एंड आर्डर बनाए रखने संभव उपाय कर रहे हैं। राज्य में अन्य स्थानों से भी अतिरिक्त पुलिस बलों को बुलाया गया है ताकि संवेदनशील क्षेत्रों में निर्धारित किया जा सके। उन्होंने कहा कि हम उचित पुलिस सेक्यूरिटी इंतेजाम किए हैं और तदनुसार बल सेट किया जा रहा है।

रोहतक ‘झज्जर और कुछ अन्य क्षेत्रों की स्थिति से संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा कि फिलहाल स्थिति सामान्य है। इन क्षेत्रों में वर्तमान समय में तनाव पैदा हो गई थी। खबरों में कहा गया है कि अधिकारियों ने कई टाउंस अतिरिक्त सेक्यूरिटी अमला को परिभाषित करते हुए कड़े इंतेजाम किए हैं।

उनमें जिन्द और सोनीपत शामिल है। जाट समुदाय की ओर से अपनी मांगों की यकसूई जो मोहलत दी गई थी वह आज रात समाप्त हो रही है। राष्ट्रपति अखिल भारतीय जाट महासभा हुआ सिंह सांगवान ने कहा कि राज्य सरकार को 17 मार्च तक राहत थी। इस सरकार ने अब तक हमारी मांगों पर कोई जवाब नहीं दिया है। 17 मार्च (आज) को हम अपने भविष्य के चौखटे को क़तईयत देंगे। हम तय करेंगे कि क्या सड़कों को रोका जाए और रेलवे पटरियों पर बाधाओं की जाएं या फिर कोई दूसरा विरोध किया।

TOPPOPULARRECENT