Tuesday , December 19 2017

हरि कृष्णा के इस्तीफ़े को क़ुबूल किए जाने के साज़िशी पहलू की तलाश

तेलुगु देशम पार्टी की जानिब से एन हरी कृष्णा की राज्यसभा रुक्नीयत से इस्तीफ़े को क़ुबूल किए जाने के अमर में साज़िशी पहलू तलाश किया जाने लगा है। गुज़िश्ता दिनों एन हरी कृष्णा ने रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ बतौरे एहतेजाज राज्य स

तेलुगु देशम पार्टी की जानिब से एन हरी कृष्णा की राज्यसभा रुक्नीयत से इस्तीफ़े को क़ुबूल किए जाने के अमर में साज़िशी पहलू तलाश किया जाने लगा है। गुज़िश्ता दिनों एन हरी कृष्णा ने रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ बतौरे एहतेजाज राज्य सभा की रुक्नीयत से इस्तीफ़ा पेश किया था जिसे फ़ौरी तौर पर क़ुबूल कर लिया गया।

इलावा अज़ीं दीगर अरकाने पार्लीमान ने भी इस मसअले पर इस्तीफ़ा पेश किया था जोकि अब भी ज़ेरे इलतिवा हैं और उन पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। तेलंगाना तेलुगु देशम फ़ोरम के ज़िम्मेदारान और क़ाइदीन का ये एहसास है कि तेलुगु देशम पार्टी पर मुत्तहदा आंध्र की हामी होने का इल्ज़ाम आइद करने और उसे मुसद्दिक़ा बनाने की कोशिश के तौर पर तेलुगु देशम रुक्न राज्य सभा का इस्तीफ़ा मंज़ूर किया गया है।

जबकि तेलुगु देशम पार्टी से ताल्लुक़ रखने वाले मुत्तहदा आंध्र के हामी क़ाइदीन आंध्र और राइलसीमा इलाक़ों में ये तास्सुर देने की कोशिश कर रहे हैं कि सिर्फ़ तेलुगु देशम पार्टी ही रियासत के दोनों इलाक़ों की तरक़्क़ी के लिए संजीदा इक़दामात कर सकती है।

इसी तरह इलाक़ा तेलंगाना में भी तेलुगु देशम पार्टी अपने मुस्तहकम मौक़िफ़ को बरक़रार रखने की कोशिश करते हुए रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ ब्यान बाज़ीयों से गुरेज़ करते हुए सिर्फ़ इस बात का मुतालिबा कर रही है कि हैदराबाद के तर्ज़ पर नई रियासत के लिए नए सदर मुक़ाम की तरक़्क़ी का एलान किया जाए और इस मक़सद के लिए कम अज़ कम 5 लाख करोड़ रुपये मंज़ूर करने का एलान होना चाहीए ताकि मेट्रोपोलिटन तर्ज़ के सदर मुक़ाम की तामीर यक़ीनी हो सके।

TOPPOPULARRECENT