Saturday , December 16 2017

हर हफ्ते एक घंटा व्यायाम डिप्रेशन को रोकने में मददगार: अध्ययन

मेलबोर्न: एक अध्ययन के मुताबिक हर हफ्ते सिर्फ एक घंटे का व्यायाम डिप्रेशन के जोखिम को रोक सकता है।

ऑस्ट्रेलिया में ब्लैक डॉग इंस्टीट्यूट के शोधकर्ताओं सहित, यह पाया गया कि मानसिक स्वास्थ्य लाभ के साथ भी थोड़ी मात्रा में व्यायाम डिप्रेशन से बचा सकता है।

अमेरिकी जर्नल ऑफ साइकोट्री में प्रकाशित अध्ययन में, 33,908 नार्वेजियन वयस्कों का विश्लेषण किया गया, और उनके 11 वर्षों से उनके स्तर के व्यायाम और डिप्रेशन और चिंता के लक्षणों की निगरानी की गयी।

प्रतिभागियों के एक स्वस्थ समूह को आधार रेखा में कहा गया था कि उन्होंने किस प्रकार की तीव्रता पर अभ्यास किया और उनकी क्या तीव्रता रही: बेदम या पसीना, बिना सांस और पसीना, या खुद को थकाए बिना।

अनुवर्ती अवस्था में, उन्होंने किसी भी उभरती हुई चिंता या अवसाद को इंगित करने के लिए आत्म-रिपोर्ट प्रश्नावली पूरी कर ली।

शोधकर्ताओं ने चर के लिए भी जिम्मेदार रखा है जो व्यायाम और सामान्य मानसिक बीमारी के बीच संबंध को प्रभावित कर सकते हैं।

इसमें सामाजिक-आर्थिक और जनसांख्यिकीय कारक, पदार्थ का उपयोग, बॉडी मास इंडेक्स, नई शुरुआत शारीरिक बीमारी और कथित सामाजिक समर्थन शामिल हैं।

टीम ने बताया कि जिन लोगों ने आधार रेखा पर बिल्कुल भी कोई व्यायाम नहीं करने की रिपोर्ट की थी उनमें 44 प्रतिशत लोगों की तुलना में हताशा के विकास की संभावना बढ़ गई थी, जो सप्ताह में एक से दो घंटे व्यायाम कर रहे थे।

अंतरराष्ट्रीय शोध दल ने पाया कि यदि हफ्तों में प्रति सप्ताह केवल एक घंटे की शारीरिक गतिविधि होती है तो डिप्रेशन के 12 प्रतिशत मामलों को रोका जा सकता था।

ब्लैक डॉग इंस्टीट्यूट के एक एसोसिएट प्रोफेसर सैमुएल हार्वे ने कहा, “यह पहली बार है कि हम भविष्य की डिप्रेशन को कम करने के मामले में शारीरिक गतिविधि की रोकथाम क्षमता को मापने में सक्षम हैं।”

हार्वे ने कहा, “यह निष्कर्ष रोमांचक हैं क्योंकि वे यह दिखाते हैं कि व्यायाम की अपेक्षाकृत छोटी मात्रा में भी – एक घंटा हर हफ्ते से डिप्रेशन के खिलाफ महत्वपूर्ण सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं।”

TOPPOPULARRECENT