Thursday , December 14 2017

हलक़ा सिकंदराबाद पर मुकेश गोड़ की नज़र, अनजन कुमार आग बगूला

कांग्रेस के रुक्न पार्लीमैंट अनजन कुमार यादव ने हलक़ा लोक सभा सिकंदराबाद पर नज़र डालने वाले रियास्ती वज़ीर मार्किटिंग मुकेश गोड़ पर सख़्त ब्रहमी का इज़हार करते हुए उन के ख़िलाफ़ शदीद रद्द-ए-अमल का इज़हार किया है। उन्हों ने कहा

कांग्रेस के रुक्न पार्लीमैंट अनजन कुमार यादव ने हलक़ा लोक सभा सिकंदराबाद पर नज़र डालने वाले रियास्ती वज़ीर मार्किटिंग मुकेश गोड़ पर सख़्त ब्रहमी का इज़हार करते हुए उन के ख़िलाफ़ शदीद रद्द-ए-अमल का इज़हार किया है। उन्हों ने कहा कि शायद रियास्ती वज़ीर पर पागलपन सवार होगया है और इशारा दिया कि वो पहले तो किसी को छेड़ते नहीं और अगर उन्हें कोई छेड़ता है तो उस को छोड़ते नहीं हैं। मुकेश गोड़ हलक़ा असेंबली गोशा महल छोड़ कर हलक़ा लोक सभा सिकंदराबाद का रुख करने की कोशिश कररहे हैं जो नाक़ाबिल-ए-बर्दाश्त है। वो तेलगुदेशम और बी जे पी से खु़फ़ीया मैच फिक्सिंग करते हुए कांग्रेस पार्टी को नुक़्सान पहूँचाने की कोशिश कर रहे हैं।

आज शाम ऐम एल ए क्वार्टर्स पर प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए मिस्टर अनजन कुमार यादव ने कहा कि 2004 -के आम इंतेख़ाबात में साउथ के अडवानी कहलाने वाले मर्कज़ी ममलिकती वज़ीर बंडारु दत्ता तरीय के ख़िलाफ़ हलक़ा सिकंदराबाद से मुक़ाबला करने के लिए शहर हैदराबाद में कांग्रेस के कोई क़ाइदीन तैय्यार नहीं थे। एक क़ाइद को टिकट देने पर वो कहां भाग गए थे अवाम अच्छी तरह जानते हैं। ख़ुद वो असेंबली टिकट के दावेदार थे लेकिन पार्टी हाईकमान की हिदायत पर पाबंद डिसिप्लिन कारकुन की तरह सिकंदराबाद लोक सभा से मुक़ाबला करते हुए कामयाबी हासिल की थी और तब सब ने इस को करिश्मा क़रार दिया था।

मजलिस का उम्मीदवार मैदान में होने के बावजूद उन्हों ने कामयाबी हासिल की थी, वो ग़ैर मुतनाज़ा क़ाइद हैं और ज़्यादा तर वक़्त अपने हल्क़ा-ए-इंतख़ाब में सर्फ करने से उन्हें हिन्दू मुस्लिम के इलावा समाज के तमाम तबक़ात की ताईद हासिल है। 2009 के आम इंतेख़ाबात में वो इलाक़ा तेलंगाना में सब से ज़्यादा वोटों की अक्सरीयत से कामयाब होने वाले अरकान-ए-पार्लीमैंट में दूसरे नंबर पर आए। मिस्टर अनजन कुमारने कहा, मुकेश गोड़ अपनी औक़ात भूल गए हैं। वोज़ारत में शमूलीयत की सिफ़ारिश करने के लिए मेरे दर पर आए थे, मैंने ही राज शेखर रेड्डी से सिफ़ारिश करते हुए उन्हें वोज़ारत में शामिल कराया था।

हलक़ा असेंबली गोशा महल में अवामी ताईद से महरूम होने वाले मुकेश गोड़ में हिम्मत है तो वो दुबारा इस हलक़ा से कामयाब होकर दिखाएं। वज़ीर मार्किटिंग नहीं जानते वो किस का सामना कर रहे हैं। कांग्रेस के रुक्न पार्लीमैंट ने वज़ीर मार्किटिंग को अहमक़ और बदमाश क़रार देते हुए कहा कि वो तेलगुदेशम और बी जे पी से मैच फिक्सिंग करते हुए कांग्रेस को नुक़्सान पहूँचाने की कोशिश कर रहे हैं। मामा देवेंद्र तेलगुदेशम में हैं और भांजा मुकेश गोड़ कांग्रेस में रहते हुए तेलगुदेशम और कांग्रेस के दौर-ए-हकूमत में दोनों मिलकर रियासत को लूट रहे हैं। इन के ख़िलाफ़ कई बदउनवानीयों के इल्ज़ामात हैं।

मिस्टर अनजन कुमारने ख़ुद को कांग्रेस का सिपाही क़रार दिया जिस ने यूथ कांग्रेस और हैदराबाद सिटी कांग्रेस की सदारत से मेहनत करते हुए अवामी एतिमाद हासिल किया है।अभी तक मुख़ालिफ़ पार्टी सरगर्मीयों में शामिल नहीं रहे और ना ही मुकेश गोड़ की तरह पार्टी से मुअत्तल हुए हैं। वो मुझे मजलिस का नाम लेकर डराने की कोशिश कर रहे हैं जबकि जंग के मैदान में उतरने के बाद मुक़ाबला में कौन है देखा नहीं जाता बल्कि जंगजू की नज़र जीत पर होती है।

मेरा बेटा अनील कुमार यादव मुकेश के फ़र्ज़ंद विक्रम की तरह दौलत के बल बूते पर ओहदे हासिल करने की कोशिश नहीं कर रहा बल्कि यूथ कांग्रेस से वाबस्ता होते हुए अवामी ख़िदमात अंजाम दे रहा है। मेरे मुक़ाबला के बारे में फ़ैसला करने वाले मुकेश गोड़ कौन होते हैं, क्या वो हाईकमान हैं?।

TOPPOPULARRECENT