Tuesday , December 19 2017

हलब बम धमाकों से दहल गया, 48 हलाक

हलब, ०४ अक्टूबर (ए एफ़ पी) शाम (Syria) का दूसरा बड़ा शहर आज मुतअद्दिद ( बहुत से) कार बम धमाकों से दहल गया, जिस के नतीजा में कम से कम 48 अफ़राद (लोग)हलाक और दीगर ( अन्य) 100 ज़ख़मी हो गए, जिन में फ़ौजी सिपाहीयों की अक्सरीयत ( बहुसंख्यक) है।

हलब, ०४ अक्टूबर (ए एफ़ पी) शाम (Syria) का दूसरा बड़ा शहर आज मुतअद्दिद ( बहुत से) कार बम धमाकों से दहल गया, जिस के नतीजा में कम से कम 48 अफ़राद (लोग)हलाक और दीगर ( अन्य) 100 ज़ख़मी हो गए, जिन में फ़ौजी सिपाहीयों की अक्सरीयत ( बहुसंख्यक) है।

सामी मिस्र इदारा बराए इंसानी हुक़ूक़ (मानव अधिकार) ने तिब्बी ज़राए के हवाले से कहा कि अक्सर महलोकीन ( मरने वालो/ मृतको) और ज़ख़मीयों का ताल्लुक़ सरकारी फ़ौज से है। एक सरकारी ओहदेदार ने इबतिदाई ( शुरुआती) तौर पर 37 हलाकतों की तौसीक़ ( पुष्टी) करते हुए कहा कि दीगर दर्जनों अफ़राद ( लोग) ज़ख़मी भी हो गयें, जिन में कई की हालत तशवीशनाक (गंभीर) है।

शहर के एक ओहदेदार ने कहा कि महलोकीन ( मरने वालों ) की तादाद में इज़ाफ़ा भी हो सकता है क्योंकि कई अफ़राद बुरी तरह ज़ख़मी हुए हैं जिन की हालत तशवीशनाक है। तफ़सीलात के मुताबिक़ हलब के तीन मर्कज़ी मुक़ामात साद उल्लाह इलजा बरी एसक्वायर, फ़ौजी आफ़िसरान के कलब और एक बड़ी होटल के क़रीब वक़फ़ा वक़फ़ा ( समय समय )से तीन ताक़तवर कार बम धमाके हुए।

बिलख़सूस आलीशान होटल के क़रीब एक मिनट के वक़फ़ा से दो ताक़तवर बम धमाके हुए। तीसरा कार बम धमाका ज़िला बाब जनीन से 150 मीटर के फ़ासिला पर हुआ। ये इलाक़ा पड़ोसी हलब के पुराना शहर के बाब अलद अखिला पर वाक़्य ( मौजूद) है।

आफीसर्स कलब के क़रीब होटल की फ़सील का बड़ा हिस्सा धमाका की शिद्दत से तबाह हो गया। इस मुक़ाम पर मौजूद ए एफ़ पी के नामा निगार ने ये ख़बर दी और कहा कि इस धमाका में दो मंज़िला इमारत मुकम्मल तौर पर मुनहदिम हो ( गिर) गई। एक क़रीबी होटल के वर्कर ने कहा कि दो ताक़तवर धमाकों की ख़ौफ़नाक आवाज़ सुनाई दी गई, जिस के बाद सारा इलाक़ा होलनाक शालों की लपेट में आ गया।

इसने मज़ीद कहा कि मैंने धुओं के बादल उमडते देखा और एक शदीद ज़ख़मी ख़ातून ( महिला) की मदद की, जिस के हाथ और पाँव जिस्म से पूरी तरह अलग हो चुके थे। एक मुक़ामी ( स्थानीय) दूकानदार ने कहा कि धमाका के फ़ौरी ( फौरन) बाद इसने मलबा से एक 10 साला लड़के को बाहर निकाला, जिस का एक पाँव कट चुका था। एक ग़ैर सरकारी टेलीविज़न चैनल अलाख़बारीह ने साद उल्लाह इलजा बरी एसक्वायर में बड़े पैमाने पर तबाही का मंज़र दिखाया, जहां कम से कम दो बड़ी इमारतें मुकम्मल तौर पर ज़मीन दोज़ हो गई थीं और खंडहर में हर तरह इंसानी जिस्म के टुकड़े, नाशें/ लाशें और ख़ून के धब्बे नज़र आ रहे थे।

TOPPOPULARRECENT