Tuesday , December 12 2017

हसन रुहानी की पालिसी बुरी तरह नाकाम – अहमदी नज़ाद

ईरान के क़दामत पसंद साबिक़ सदर महमूद अहमदी नज़ाद ने मौजूदा सदर हसन रुहानी की पालिसीयों बिलख़ुसूस मुतनाज़े जौहरी प्रोग्राम पर तय पाए समझौते, आलमी इक़तिसादी पाबंदीयों के ख़ातमे के वादों और मआशी हालात की बेहतरी के हवाले से इक़दामात को कड़ी तन्क़ीद का निशाना बनाया है।

उनका कहना है कि हसन रुहानी की पालिसी बुरी तरह नाकाम हो चुकी है। ख़बररसां एजेंसी महर के मुताबिक़ साबिक़ सदर ने एक तक़रीब से ख़िताब करते हुए कहा कि हसन रुहानी की पालिसी मुकम्मल तौर पर नाकाम रही है।

अहमदी नज़ाद का कहना है कि मौजूदा हुकूमत ने दावा किया था कि जौहरी प्रोग्राम पर समझौते की सूरत में आम ईरानी शहरीयों के मआशी हालात बेहतर होंगे। शहरीयों का म्यारे ज़िंदगी बुलंद होगा और आलमी पाबंदीयां उठने की बदौलत मुल्क में दौलत की रेल-पेल हो जाएगी मगर ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।

जौहरी प्रोग्राम पर मुआहिदे के बावजूद आम शहरीयों की ज़िंदगी में कोई तबदीली नहीं आई है। इस से ये साबित होता है कि हसन रुहानी की हुकूमत बुरी तरह नाकाम रही है। उधर ईरान में इस्लाह पसंदों के मुक़र्रब एक न्यूज़ वैब पोर्टल ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि साबिक़ सदर महमूद अहमदी नज़ाद तेहरान के क़रीब रामयन शहर में एक तक़रीब से ख़िताब करते हुए हसन रुहानी को तन्क़ीद का निशाना बनाया।

TOPPOPULARRECENT