Sunday , November 19 2017
Home / Entertainment / हाईकोर्ट पहुंचा ‘सरकार 3’ का विवाद

हाईकोर्ट पहुंचा ‘सरकार 3’ का विवाद

मुंबई :निर्माता-निर्देशक रामगोपाल वर्मा की महानायक अमिताभ बच्चन, मनोज बाजपेई, जैकी श्रॉफ, रोनित रॉय, यामी गौतम, सुप्रिया पाठक, अमित साध, और रोहिणी हत्तंगड़ी स्टारर फिल्म ‘सरकार 3’ रिलीज के लिए तैयार है। ऐसे में रिलीज से ठीक पहले फिल्म को लेकर एक विवाद खड़ा हो गया है। दरअसल, बॉम्बे हाईकोर्ट ने रामगोपाल वर्मा को फिल्म के स्क्रिप्ट राइटर नीलेश गिरकार के लिए स्पेशल स्क्रिनिंग रखने का आदेश दिया है। नीलेश ने 30 जनवरी को हाईकोर्ट में अपील करते हुए दावा किया था कि उन्होंने ‘सरकार 3’ की स्क्रिप्ट लिखी है। इसके बावजूद रामगोपाल वर्मा ने उनका उचित मेहनताना और आभार व्यक्त नहीं किया है।

नीलेश ने अपने आरोप में यह भी कहा है कि उन्हें स्क्रिप्ट लिखते समय जो बड़े-बड़े वादे किए गए थे उसके अनुसार मेहनताने के पैसे नहीं दिए गए हैं। तभी से ‘सरकार 3’ कॉपीराइट उलल्घंन के विवाद में फंस गई है। हाईकोर्ट में 11 मार्च को हुई पेशी में न्यायधीश गौतम पटेल ने रामू को 6 लाख 20 हजार रुपए कोर्ट में पेमेंट सेटलमेंट के लिए जमा करने का फरमान सुनाया था। अब इस केस में बीते 17 मार्च को हुई पेशी में न्यायधीश पटेल ने रामगोपाल वर्मा के वकील को नीलेश और उनके वकील के लिए स्पेशल स्क्रिनिंग रखने का आदेश दिया था। फिल्म देखने के बाद नीलेश को यह पता चल जाएगा कि फिल्म में उनकी कितनी स्क्रिप्ट का इस्तेमाल कितना किया गया है।

कोर्ट ने नीलेश और उनके वकील को फिल्म की स्क्रिनिंग के दौरान किसी भी तरह के रिकॉर्डिंग डिवाइस लाने से मना किया है। कोर्ट ने रामू को फिल्म की एक मूल कॉपी कोर्ट में और एक कॉपी नीलेश को देने का आदेश दिया है। स्क्रिप्ट राइटर नीलेश काफी समय से रामू के साथ काम कर रहे हैं। उन्होंने रामू की फिल्म ‘डिपार्टमेंट’ सहित कई और फिल्मों की स्क्रिप्ट लिखी हैं।

महिला दिवस के मौके पर रामगोपाल वर्मा ने अपने ट्विटर हैंडल से महिलाओं के प्रति एक अभद्र कमेंट किया था बाद में जब रामू की सोशल साइट में जमकर आलोचना हुई तब उन्होंने माफी भी मांग ली थी। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘मैं ऐसी कामना करता हूं कि सभी महिलाएं पुरुषों को उतनी खुशी दें जितनी सनी लियोनी ने दी है।’ एक दुसरे ट्वीट में वह लिखते हैं, ‘महिला दिवस को पुरुषों का दिन कहकर पुकारा जाना चाहिए, क्योंकि पुरुष महिलाओं को उस हद तक सेलिब्रेट करते हैं जितना महिलाएं भी महिलाओं को नहीं करती हैं।’ रामू के मुताबिक, ‘महिलाओं को कम से कम आज के दिन झुंझलाना और चीखना नहीं चाहिए और पुरुषों को थोड़ी आजादी देनी चाहिए।’

TOPPOPULARRECENT