हार्दिक पटेल के खिलाफ़ वारंट जारी, जानिए, क्या है मामला

हार्दिक पटेल के खिलाफ़ वारंट जारी, जानिए, क्या है मामला
Click for full image

राजद्रोह प्रकरण में आरोपी पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के बुधवार को उपस्थित नहीं रहने पर शहर सत्र अदालत ने हार्दिक के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया। मामले की अगली सुनवाई 25 अप्रेल को होगी।

उधर हार्दिक के साथ-साथ इस मामले के एक अन्य आरोपी चिराग पटेल भी अदालत में उपस्थित नहीं रहे। हालांकि चिराग की ओर से वकील ने यह आवेदन दिया कि सामाजिक कार्यक्रम में जाने के कारण चिराग अदालत के समक्ष उपस्थित नहीं रह सकेंगे।

उधर हार्दिक की ओर से अदालत में अनुपस्थिति को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई थी। वहीं तीसरे आरोपी दिनेश बांभणिया अदालत में उपस्थित थे।

तीनों आरोपियों के एक साथ अदालत में उपस्थित नहीं रहने के कारण आरोप तय किए जाने की कार्यवाही एक बार फिर स्थगित रही। आरोप तय होने के लिए सभी आरोपियों का अदालत में उपस्थित रहना जरूरी है।

उधर राज्य सरकार ने आरोपियों के अदालत में उपस्थित नहीं रहने को लेकर नारागजगी व्यक्त की। साथ ही यह भी दलील दी कि ऐसा प्रतीत होता है कि आरोपी अदालत को मानते ही नहीं हैं। इससे पहले अदालत ने गत फरवरी महीने में हार्दिक की आरोप मुक्ति की याचिका खारिज कर दी थी।

इस प्रकरण में फिलहाल हार्दिक, चिराग, दिनेश सहित सभी आरोपी जमानत पर हैं। गत वर्ष जनवरी में क्राइम ब्रांच ने हार्दिक व अन्य के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया था। मामले का आरोपी केतन पटेल इस मामले में मुख्य गवाह बन चुका है। विधानसभा चुनाव से पहले चिराग व दिनेश ने हार्दिक से किनारा कर लिया था। चेतन व चिराग दोनों भाजपा से जुड़ गए हैं।

25 अगस्त 2015 को अहमदाबाद के जीएमडीसी मैदान पर पाटीदार क्रांति रैली का आयोजन किया था। इस रैली के खत्म होने के बाद देर शाम अहमदाबाद के साथ-साथ राज्य भर में हिंसा भडक़ी थी। इस हिंसा में 13 जनों की मौत हो गई थी।

इस घटना के करीब दो महीने बाद अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने इस मामले में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के संयोजक हार्दिक व अन्य के खिलाफ राजद्रोह व आपराधिक षड्यंत्र के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी।

Top Stories