Monday , November 20 2017
Home / India / हार की वजह रिज़र्वेशन या बयानबाज़ी नहीं : जेटली

हार की वजह रिज़र्वेशन या बयानबाज़ी नहीं : जेटली

नयी दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी के पार्लियामानी बोर्ड ने पीर को बिहार में हार के वजूहात पर गौर किया। बैठक में वजीरे आजम नरेंद्र मोदी और भाजपा सदर मौजूद रहे। इजलास के बाद मरकज़ी फाइनेंस वज़ीर अरुण जेटली ने हार का असल वजह महागठबंधन के पार्टियों के कामयाब वोट ट्रांसफ़र को माना। उन्होंने अपनी पार्टी के लीडरों की बयानबाज़ी या रिज़र्वेशन के मुद्दे को हार की वजह मानने से इंकार कर दिया। आरएसएस चीफ़ मोहन भागवत के रिज़र्वेशन से मुतल्लिक़ बयान पर जेटली ने कहा, “बीजेपी की पॉलिसी हमेशा से इस बारे में वाजेह रही है। हमने अपनी पार्टी की तशकील की शुरुआत से ही सामाजिक बुनियाद पर रिज़र्वेशन को कुबूल किया है। आरएसएस की भी स्ट्रीम यही रही है।

महागठबंधन ने रिज़र्वेशन पर मोहन भागवत के बयान को अहम मुद्दा बनाया था। लीडरों की बयानबाज़ी के सवाल पर जेटली ने कहा कि इंतिख़ाब के दौरान लीडर ऐसे बयान दे देते हैं। एक बयान के ऊपर इंतिख़ाब तय नहीं होता है। इंतिख़ाब का अपना अलग फॉर्मूला होता है। अरुण जेटली ने बिहार इंतिख़ाब को मोदी हुकूमत पर अवामी रुझान मानने से भी इंकार कर दिया। बिहार इंतिख़ाब नतीजों पर अरुण जेटली ने कहा, “हम नतीजों का इज्ज़त करते हैं और उम्मीद करते हैं कि नई हुकूमत बिहार में तरक्की लाने का काम करेगी। ”

हार का वजह बताते हुए जेटली ने कहा, “पहली नज़र से असल वजह हमें ये लगा है कि 2014 के लोकसभा इंतिख़ाब में महागठबंधन के तीनों पार्टी आरजेडी, जदयू और कांग्रेस पार्टियां अलग-अलग से इंतिख़ाब लड़े थे। लोकसभा इंतिख़ाब में हमारा वोट फीसद 38.8 था जबकि महागठबंधन के पार्टियों का इज़्तेमाई वोट फीसद 45.3 फीसद था। अजीम इत्तिहाद के पार्टियों का वोट ट्रांसफ़र हमारी उम्मीद से ज़्यादा हुआ। ”

जेटली ने कहा, “हमें लगा था कि महागठबंधन के पार्टी वोट ट्रांसफ़र नहीं करवा पाएंगे। हमारा तजवीज ग़लत था। ” जेटली ने कहा कि पार्टी बिहार में अपना बुनियाद बढ़ाने पर मेहनत करेगी। उन्होंने कहा, “मरकज़ी हुकूमत के मुजाहिरे और अपने तंजीम की ताक़त की बुनियाद पर वहां आगे अपना वोट बुनियाद बढ़ाने की चैलेंज को हम कुबूल करते हैं। ” कबीले एतराज़ बयानों के सिलसिले में किए गए सवाल पर जेटली ने कहा, “किसी लीडर पर कार्रवाई की कोई बहस नहीं हुई। ” जेटली ने कहा, “मीडिया भी ऐसे साथियों की तलाश में रहती है, कैमरा भी उनकी तरफ कर लेते हैं । ” जेटली ने अपने लीडरों को सलाह देते हुए कहा कि तमाम लीडर को ग़ैर-ज़िम्मेदार बयानों से बचना चाहिए।

पार्टी सदर अमित शाह की कियादत पर किए गए सवाल पर जेटली ने कहा, “हम उनकी कियादत में कई इंतिख़ाब जीते हैं। चार अहम एसेम्बली इंतिख़ाब जीते हैं। ऐसे में हमें सिर्फ़ हार ही नज़र आए ये सही नहीं। पार्टी इजतेमाई तौर से जीतती है और इज़्तेमाई तौर से हारती है। ”

 

TOPPOPULARRECENT