Thursday , December 14 2017

हार के बाद भी क्या है राहुल गांधी की हंसी का राज़‌

सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने पार्टी के सदर और नायब सदर होने के नाते इंतेख़ाबात में शिकस्त की ज़िम्मेदारी क़बूल की है|

सोनिया गांधी और राहुल गांधी ने पार्टी के सदर और नायब सदर होने के नाते इंतेख़ाबात में शिकस्त की ज़िम्मेदारी क़बूल की है|

बी जे पी के हाथों मिली इस ख़ौफ़नाक शिकस्त के बाद माँ बेटे ने मीडिया के किसी सवाल का जवाब तो नहीं दिया लेकिन नई हुकूमत को मुबारकबाद ज़रूर दी| लेकिन प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान एक बड़ी अजीब वाक़िया सामने आया , जो लोगों को नागवार गुजरा| मीडिया से मुख़ातिब होने आए राहुल गांधी लोक सभा इंतेख़ाबात में मिली बड़ी हार के बाद भी मुसलसल मुस्कुराते हुए नज़र आए|

ये हंसी का राज अभी तक पता नहीं चल पाया है कि आख़िर वो मुस्कुरा क्यों रहे थे ? लेकिन हो सकता है कि राहुल की हंसी की वजह सोनिया गांधी का हार की पूरी ज़िम्मेदारी लेना हो| जिस की राहुल गांधी पर शिकस्त का दाग़ ना लगे|

मीडिया से बात करते हुए राहुल ने कहा कि बी जे पी को जनादेश(मैंडियट) मिला है| में उन्हें मुबारकबाद देता हूँ| में उन्हें नेक ख़ाहिशात देता हूँ| उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने इंतेख़ाबात में ख़राब कारकर्दगी का मुज़ाहरा किया है और पार्टी को इस बारे में सोचने की ज़रूरत है| राहुल ने कहा कि कांग्रेस के नायब सदर के तौर पर पूरी आजिज़ी से में इस हार की ज़िम्मेदारी लेता हूँ|

सोनिया ने राहुल गांधी का दिफ़ा करते हुए कहा कि कांग्रेस सदर होने के नाते में ज़िम्मेदारी लेती हूँ| उन्होंने कहा कि जनादेश(मैंडियट) हमारे ख़िलाफ़ है और में इस फ़ैसले को आजिज़ी से मानती हूँ| नई हुकूमत को मुबारकबाद देते हुए सोनिया गांधी ने उम्मीद ज़ाहिर की कि वो समाजी इत्तेहाद और क़ौमी से समझौता नहीं करेगी| उन्होंने कहा कि कांग्रेस अपने उसूलों के लिए जंग जारी रखेगी और कोई समझौता नहीं करेगी|

TOPPOPULARRECENT