हिंदुत्व राजनीति भारत की धर्म निरपेक्षता की विरासत का नाश करेगी ! परीक्षा में पूछा गया सवाल पर बवाल

हिंदुत्व राजनीति भारत की धर्म निरपेक्षता की विरासत का नाश करेगी ! परीक्षा में पूछा गया सवाल पर बवाल
Click for full image

बरेली : इग्नू की परीक्षा में हिंदुत्व पर पूछे गए सवाल से बखेड़ा खड़ा हो गया है। बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के एमए पॉलिटिकल साइंस के पेपर में कौटिल्य अर्थशास्त्र में जीएसटी और भाजपा पर निबंध लिखने के सवालों पर उठे विवाद के बाद अब इग्नू के एमए पॉलिटिकल साइंस पेपर में भी हिंदुत्व राजनीति पर विवादित सवाल पूछे जाने पर भाजपाई भड़क गए।

दरअसल इंदिरा गांधी नेशनल ओपन यूनिवर्सिटी (इग्नू) की इन दिनों परीक्षाएं चल रही हैं। इस दौरान एमए राजनीति शास्त्र के दिसंबर टर्म एन्ड पेपर के अनुभाग दो के सातवें सवाल पर विवाद पैदा हो गया है। बीजेपी के बरिष्ट नेता गुलशन आनन्द का कहना है कि परीक्षा में प्रश्न पत्र में सवाल पूछा गया था कि हिंदुत्व राजनीति भारत की बहुसंस्कृतिवाद और धर्म निरपेक्षता की विरासत का नाश करेगी, परीक्षण कीजिए। राजनीति शास्त्र की परीक्षा में पूछे गए इस प्रश्न से भारतीय जनता पार्टी के नेता गुलशन आनंद और हिंदूवादी संगठनों ने कड़ी आपत्ति जाहिर की। प्रश्न पर सवालिया निशान लगाते हुए भाजपा नेता गुलशन आनंद ने इस मामले की शिकायत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की है और प्रश्नपत्र बनाने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई की मांग की है। वहीं शिक्षा जगत से जुड़े लोग इस तरह के प्रश्न पूछने को गलत बता रहे है ।

बीएचयू के राजनीतिक विज्ञान के दूसरे पेपरों में भी ऐसे कई सवाल पूछे गए जिन पर अब बवाल हो रहा है। पहला सवाल था कि कौटिल्य के अर्थशास्त्र में जीएसटी के स्वरूप पर एक निबंध लिखिए, जबकि दूसरा सवाल था कि वैश्वीकरण के मनु पहले भारतीय चिंतक थे, इसपर चर्चा कीजिए। एमए राजनीतिक विज्ञान के फर्स्ट सेमेस्टर के एक पेपर में उनसे भारतीय जनता पार्टी पर एक निबंध लिखने को कहा गया था।

राजनीति विज्ञान के छात्रों से जब बात की गई तो उन्होंने कहा कि इन पेपरों को प्रोफेसर कौशल किशोर मिश्र की सलाह पर तैयार किए गए हैं। प्रोफेसेर मिश्र संघ का करीबी भी माना जाता है। प्रोफेसर मिश्र ने कहा कि इस पेपर को तैयार करने में कोई गलती नहीं हुई है। प्रोफेसर मिश्र का कहना है कि कौटिल्य का अर्थशास्त्र पहली भारतीय किताब है जोकि आज के जीएसटी के विचार के बारे में बताती है।

Top Stories