हिंदुस्तान में बच्चों की शरह अम्वात में कमी – रिपोर्ट

हिंदुस्तान में बच्चों की शरह अम्वात में कमी – रिपोर्ट
हिंदुस्तान ऐसी सरकर्दा 10 अक़्वाम में से है जिन्हों ने 1990 से बच्चों की शरह अम्वात को घटाने में ज़बरदस्त पेशरफ़्त करली , आज शाय एक जायज़ा में ये बात कही गई।

हिंदुस्तान ऐसी सरकर्दा 10 अक़्वाम में से है जिन्हों ने 1990 से बच्चों की शरह अम्वात को घटाने में ज़बरदस्त पेशरफ़्त करली , आज शाय एक जायज़ा में ये बात कही गई।
बच्चों के तहफ़्फ़ुज़ के लिए काम करने वाली बैनुल अक़वामी तंज़ीम सेव दी चिल्डर्न की नई रिपोर्ट में बताया गया कि जहां दुनिया के ग़रीब तरीन ममालिक में शामिल नाइजिरया इस मुआमले में सरे फ़ेहरिस्त है, वहीं दीगरअक़्वाम जैसे लाइबेरिया, रवांडा, इंडोनेशिया, हिंदुस्तान, चीन, मिस्र, तनज़ानिया और मौज़म्बीक़ ने गुज़िश्ता दो दहों में अच्छा काम किया है।

खासतौर पर बच्चीयों के लिए ख़तरा ज़्यादा संगीन है। रिपोर्ट में हुकूमतों से मुतालिबा किया गया है कि वो नौज़ाईदा बच्चों की शरह अम्वात में कमी पर मज़ीद तवज्जा दें।

Top Stories