Tuesday , June 19 2018

हिंदूस्तानी मछेरों पर कोई जुग़राफ़ियाई या सयासी पाबंदी नहीं

मदुराए १० दिसम्बर: (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला तमिलनाडू जया ललीता की सख़्त तन्क़ीद के बाद कोस्ट गार्ड ने मद्रास हाईकोर्ट में अपने जवाबी हलफ़नामा से इस हिस्सा को हज़फ़ करदिया जहां इंडो श्रीलंकन मेरी टाइम बॉर्डर लाईन से पाँच नाटीकल मील तक

मदुराए १० दिसम्बर: (पी टी आई) वज़ीर-ए-आला तमिलनाडू जया ललीता की सख़्त तन्क़ीद के बाद कोस्ट गार्ड ने मद्रास हाईकोर्ट में अपने जवाबी हलफ़नामा से इस हिस्सा को हज़फ़ करदिया जहां इंडो श्रीलंकन मेरी टाइम बॉर्डर लाईन से पाँच नाटीकल मील तक नो फ़िशिंग ज़ोन क़रार दिया गया था।

हाईकोर्ट में दाख़िल किए गए एक हलफ़नामा में डिप्टी डायरैक्टर जनरल आफ़ कोस्ट गार्ड मिंजानिब मर्कज़ी हुकूमत, ये कहा गया था कि रसपानडनटस बिशमोल हिंदूस्तान मज़कूरा जवाबी हलफ़नामा से पैराग्राफ़ नंबर 13 को हज़फ़ करना चाहता है।

बराह-ए-करम इस पैराग्राफ़ को हज़फ़ करते हुए उसी मुताबिक़त से हुक्म जारी किया जाये। याद रहे कि जया ललीता ने 26 नवंबर को हाईकोर्ट में मछेरों के मुआमला में कोस्ट गार्ड्स के मौक़िफ़ को ग़ैर ज़रूरी क़रार दिया था और वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से ख़ाहिश की थी कि मौसूफ़ क़बल इस के कि कोई अज़ीम नुक़्सान हो जाये, इस मुआमला में मुदाख़िलत करें।

उन्होंने कहा था कि हिंदूस्तानी मछेरे ज़माना-ए-क़दीम से मछली पकड़ने का काम करते रहे हैं और मछलियां पकड़ने वो Palk Bay भी जाते हैं जहां उन पर कोई जुग़राफ़ियाई या सयासी पाबंदी नहीं है। दूसरी बंच ने 14 अक्टूबर को अपने उबूरी हुक्मनामा के ज़रीया मर्कज़ को ये हिदायत की थी कि अंदरून 10 रोज़ हिफ़ाज़ती इक़दामात करते हुए कोस्ट गार्ड्स कश्तीयों की काबुल लिहाज़ तादाद को ताय्युनात किया जाय जिस की निगरानी सीनीयर हिंदूस्तानी बहरीया के अरकान के ज़िम्मा हो ताकि इस बात को यक़ीनी बनाया जा सके कि हिंदूस्तानी मछेरों को ख़ुसूसी तौर पर तमिल्नाडू के मछेरों को सिरी लंकाई बहरीया के अहलकार परेशान ना करें।

इस उबूरी हुक्मनामा की दसतबरदारी की दरख़ास्त के साथ डिप्टी डायरैक्टर जनरल आफ़ कोस्ट गार्ड वे ऐस आर मूर्ती ने 16 नवंबर को एक ज़ाइद जवाबी हलफ़नामा दाख़िल करते हुए नौ फ़िशिंग ज़ोन तशकील देने का मश्वरा दिया था जो इंडो श्रीलंका इंटरनैशनल मेरी टाइम बानडरी लाईन के क़रीब तशकील दिया जाना था और इस की ख़िलाफ़वरज़ी करने वालों को संगीन नताइज का इंतिबाह भी दिया गया था।

TOPPOPULARRECENT