Monday , December 11 2017

हिंदूस्तान की चीन के ख़िलाफ़ फौजी क़ुव्वत में इज़ाफ़ा

अंदरून 15 यौम दूसरी बार आला अमरीकी इंटेलिजेंस ओहदेदारों ने ये दावा किया है कि हिंदूस्तान एशिया । पैसिफिक ख़ित्ते में चीन के ज़ाहिरी जारिहाना रवैय्या के पेश नज़र अपनी मुसल्लह अफ़्वाज को मर्कूज़ कर रहा है । डीफ़ैंस इंटेलिजेंस एज

अंदरून 15 यौम दूसरी बार आला अमरीकी इंटेलिजेंस ओहदेदारों ने ये दावा किया है कि हिंदूस्तान एशिया । पैसिफिक ख़ित्ते में चीन के ज़ाहिरी जारिहाना रवैय्या के पेश नज़र अपनी मुसल्लह अफ़्वाज को मर्कूज़ कर रहा है । डीफ़ैंस इंटेलिजेंस एजंसी के डायरैक्टर रोनालड अल बर्गेस ने सैनेट आर्म्ड सर्विसेस कमेटी के रूबरू अपने बयान में कहा कि मोतानाज़ा सरहद के पास फौजी की सूरत-ए-हाल फ़िलहाल पुर सुकून है ।

ताहम हिंदूस्तान चीनी तब्दीलियों के बारे में फ़िक्रमंद है और ख़ुद अपनी सलाहियतों में बेहतरी लाने के इक़दामात कररहा है । बर्गेस ने क़ानून साज़ों को बताया कि हिंदूस्तान अपनी ज़मीनी अफ़्वाज की क़ुव्वत बढ़ा रहा है , असरी एतबार से अपनी सलाहियत बेहतर कर रहा है और चीन के मुक़ाबिल जदीद लड़ाका तय्यारे तैनात कर रखे हैं ।

उन्हों ने कहा कि हिंदूस्तान अपने न्यूकिलीयाई काबिलियत वाले मीज़ाईलों के वक़फ़ा वक़फ़ा से तजुर्बात मुनाक़िद करता है ताकि अपनी बालसटिक मीज़ाईल काबिलियत और सलाहियत की तसदीक़ करते हुए उसे बढ़ावा दिया जा सके । उन्हों ने बताया कि हिंदूस्तान के मौजूदा डीफ़ैंस सिस्टम में न्यूक्लियर काबिलियत वाले लड़ाका तय्यारे और बालसटिक मीज़ाईल शामिल हैं और हिंदूस्तान का दावा है कि वो न्यूक्लियर सलाहियत वाला छः हज़ार किलोमीटर रेंज का इंटर कांटीनेंटल बालसटिक मीज़ाईल बना रहा है जो हमा नौईयत के वार हैडस साथ ले जाएगा , हिंदूस्तान इस का तजुर्बा करने वाला है ।

चीन और हिंदूस्तान ने फौजी ता फौजी रवाबित का वस्त 2011 में अहया -किया और सितंबर में अपने पहले कलीदी नौईयत के मआशी मुज़ाकरात मुनाक़िद किए। बर्गेस ने बताया कि दोनों मुल्कों ने अपने देरीना सरहदी तनाज़ा पर नवंबर में ग़ौर-ओ-ख़ौज़ भी किया है । डायरैक्टर आफ़ नेशनल इंटेलिजेंस जेम्स कल्लापर ने भी 15 रोज़ कब्ल इसी तरह के रिमार्कस करते हुए सैनेट कमेटी को वाक़िफ़ करवाया था ।

TOPPOPULARRECENT