Wednesday , December 13 2017

हिंदूस्तान के अव्वलीन वज़ीर-ए-तालीम मौलाना आज़ाद को ख़िराज-ए-अक़ीदत

स्पीकर लोक सभा मिरा कुमार, मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंडे, क़ाइद अप्पोज़ीशन सुषमा स्वराज और दीगर अरकान-ए-पार्लीमैंट ने मुमताज़ मुजाहिद आज़ादी हिंदूस्तान के अव्वलीन वज़ीर-ए-तालीम मौलाना अबुल कलाम आजाद को उनकी यौम-ए-पैदाइश

स्पीकर लोक सभा मिरा कुमार, मर्कज़ी वज़ीर-ए-दाख़िला सुशील कुमार शिंडे, क़ाइद अप्पोज़ीशन सुषमा स्वराज और दीगर अरकान-ए-पार्लीमैंट ने मुमताज़ मुजाहिद आज़ादी हिंदूस्तान के अव्वलीन वज़ीर-ए-तालीम मौलाना अबुल कलाम आजाद को उनकी यौम-ए-पैदाइश पर भरपूर ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश किया।

पार्लीमैंट के मर्कज़ी हाल में मुनाक़िदा तक़रीब में लोक सभा की सेकरेट्रि से एक बयान जारी किया गया, जिस में कहा गया है कि दीगर अहम शख़्सियात के अलावा जिन्होंने लोक सभा की सेकरेट्रि में मौलाना आज़ाद की तस्वीर पर फूल मालाएं चढ़ाईं। साबिक़ अरकान-ए-पार्लीमैंट और लोक सभा सेकरेट्रि के ओहदेदार शामिल थे।

इस मौके पर एक किताब भी जारी किया गया, जिस में मौलाना अबूल-कलाम आज़ाद के मुख़्तसर हालात-ए-ज़िंदगी हिन्दी और अंग्रेज़ी में तहरीर किए गए हैं। ये किताब लोक सभा की सेकरेट्रि में ख़िराज-ए-अक़ीदत पेश करने की तक़रीब में शिरकत करने वाले तमाम अहम शख़्सियतों को पेश किया। मौलाना अबूल-कलाम आज़ाद की तस्वीर की पहले सदर जमहूरीया हिंद डाँक्टर राजिंदर प्रसाद ने पार्लीमैंट के मर्कज़ी हाल में 16 दिसमबर 1959 को निक़ाब कुशाई की थी।

TOPPOPULARRECENT