Monday , December 11 2017

हिंदूस्तान के हदफ़ के लिए इस्लेहात का तेज़ अमल ज़रूरी

बैन-उल-अक़वामी मालीयाती फ़ंड ने आज कहा कि हिंदूस्तान को पैदावार की शरह में इज़ाफ़ा के निशाना को हासिल करने के लिए मआशी इस्लेहात के अमल को तेज़ करना होगा, इफ़रात-ए-ज़र की शरह में तशवीशनाक इज़ाफ़ा हो रहा है। बैन-उल-अक़वामी मालीयाती फ़ंडने मज़

बैन-उल-अक़वामी मालीयाती फ़ंड ने आज कहा कि हिंदूस्तान को पैदावार की शरह में इज़ाफ़ा के निशाना को हासिल करने के लिए मआशी इस्लेहात के अमल को तेज़ करना होगा, इफ़रात-ए-ज़र की शरह में तशवीशनाक इज़ाफ़ा हो रहा है। बैन-उल-अक़वामी मालीयाती फ़ंडने मज़ीद कहा कि इफ़रात-ए-ज़र में किसी मज़ीद इज़ाफ़ा को रोकने के लिए आर बी आई को अपनी शरह सूद में इज़ाफ़ा करना चाहीए।

TOPPOPULARRECENT