Thursday , December 14 2017

हिंदूस्तान में मुस्लमानों को तरक़्क़ी के शानदार मवाक़े दस्तयाब

तानडोर, १० जनवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) अमीर आदमी और अमीर बनें ये तरक़्क़ी नहीं है मुल़्क की तरक़्क़ी मुल़्क की दूसरी बड़ी अक्सरीयत मुस्लमानों की तरक़्क़ी पर मुनहसिर है । हिंदूस्तान मुख़्तलिफ़ मज़ाहिब का गहवारा है जिस ने दुनिय

तानडोर, १० जनवरी ( सियासत डिस्ट्रिक्ट न्यूज़) अमीर आदमी और अमीर बनें ये तरक़्क़ी नहीं है मुल़्क की तरक़्क़ी मुल़्क की दूसरी बड़ी अक्सरीयत मुस्लमानों की तरक़्क़ी पर मुनहसिर है । हिंदूस्तान मुख़्तलिफ़ मज़ाहिब का गहवारा है जिस ने दुनिया की सैर करली दुनिया में एक भी ऐसा मुल्क़ देखा कांग्रेस के 7, 8साला दौर-ए-इक्तदार में मुल्क में जो तरक़्क़ी हुई है मुस्लमानों को जितने मवाक़े मिले हैं उन की मिसाल माज़ी में नहीं मिलती ।

इन ख़्यालात का इज़हार मर्कज़ी वज़ीर पैट्रोलीयम-ओ-रुकन पार्लीमान चीवड़ला मिस्टर ऐस जुए पाल रेड्डी ने तानडोर मैं मुनाक़िदा मुस्लिम वेलफेयर एसोसीएसन की तक़रीब हलफ़ बर्दारी के मौक़ा पर अपने ख़िताब में क़िया । सिलसिला ख़िताब जारी रखते हुए उन्हों ने कहा कि बहैसीयत रुकन पार्लीमान-ओ-मर्कज़ी वज़ीर अपने हलक़ा की अवाम बिलख़सूस मुस्लमानों की ख़िदमत का अज़म रखते हैं । इसी ग़रज़ से अब तक हलक़ा में 55 लाख रुपय के तरक़्क़ीयाती काम अंजाम दिए गए । मज़ीद 4.5करोड़ रूपियों के तरक़्क़ीयाती काम हलक़ा तानडोर में अंजाम दिए जाऐंगे । जिन में अवाम की सहूलत केलिए एक और गैस एजैंसी का क़ियाम स्किल डेवलपमेंट स्कूल जिस में बेरोज़गार नौजवानों को हमा इक़साम के रोज़गार ग्यारंटी तर्बीयती कोर्सेस फ़राहम किए जाऐंगे ।

इस मौक़ा पर वज़ीर मौसूफ़ ने मुस्लिम वेलफेयर एसोसीएसन की नौ मुंख़बा मजलिस-ए-आमला को मुबारकबाद पेश करते हुए कहा कि मुल़्क-ओ-क़ौम की ख़िदमत के लिए मुस्लिम वीलफ़ीर एसोसीएसन का क़ियाम एक मुसबत क़दम है । मुस्लमानों को ख़िदमत के साथ साथ तालीम के मैदान में आगे आना चाहीए । इस मौक़ा पर मेहमान एज़ाज़ी की हैसियत से शरीक मुहतरमा सबीता इंदिरा रेड्डी रियास्ती वज़ीर-ए-दाख़िला ने ख़िताब करते हुए कहा कि आज उन का जो मुक़ाम है वो मुस्लमानों की मरहून-ए-मिन्नत है । रियासत में मुस्लमानों के मुताल्लिक़ स्कीमों का तज़किरा करते हुए वज़ीर-ए-दाख़िला ने कहाकि 4% तहफ़्फुज़ात फ़ीस माफ़ी स्कीम के इलावा और बहुत सारे काम हैं जो हुकूमत के मंसूबा में शामिल है ।

मुहतरमा सबीता इंदिरा रेड्डी ने ऐलान किया कि वो मुस्लमानों केलिए हुकूमत से नुमाइंदगी करने हर लम्हा तैय्यार रहेंगी और अपने दायरा इख़तियार में जो कुछ किया जा सकता है उसे करने गुरेज़ नहीं करेंगी । ताहम मज़कूरा जलसा में कुछ देर केलिए कशीदगी पैदा हो गई । दरीं असना मौलाना मुफ़्ती सादिक़ मुही उद्दीन फ़हीम ने मुस्लिम वीलफ़ीर एसोसी उष्ण की मजलिस-ए-आमला अरकान आमिला को हलफ़ दिलाया । इस दौरान तलंगाना हामी तलबा-ए-ने जलसा-ए-गाह में दाख़िल हो कर वज़ीर मौसूफ़ से तेलंगाना से मुताल्लिक़ अपना मौक़िफ़ वाज़िह करने का मुतालिबा किया । मज़ीद एक याददाश्त जय पाल रेड्डी के हवाले की गई जिस में मर्कज़ी हुकूमत से तशकील तलनगाह का मुतालिबा कियागया ।

बादअज़ां पुलिस ने मुदाख़िलत करते हुए तलबा-ए-को जलसा-ए-गाह से बाहर करदिया और तेलंगाना हामी तलबा-ए-जुए तेलंगाना के नारे बुलंद करते हुए रवाना हो गए । प्रोग्राम के मुताबिक़ एस जय पाल रेड्डी दोपहर 1बजे के क़रीब तानडोर पहुंच गए और दोपहर 2बजे सिंडीकेट ऑफ़िस तानडोर पर मुक़ामी पार्टी क़ाइदीन के हमराह प्रेस कान्फ़्रैंस मुनाक़िद की गई जिस में वज़ीर मौसूफ़ ने सहाफ़ीयों का जवाब देते हुए बताया कि सदर जमहूरीया की दौड़ शामिल नहीं है मुल्क में रौनुमा हुए मुख़्तलिफ़ घटालों और तेलंगाना के मुताल्लिक़ सवालात को वज़ीर मौसूफ़ ने हाथ जोड़ कर टाल दिया । बादअज़ां एस जय पाल रेड्डी और मुहतरमा सबीता इंदिरा रेड्डी ने जूनीयर कालेज ग्राउंड मैं गर्वनमैंट डिग्री कालेज की इमारत संग-ए-बुनियाद रखा और मुस्तक़र में 5मुक़ामात पर तंसीब की गई हाई मासट लाईटों का इफ़्तिताह अंजाम दिया ।

मुस्लिम वेल्फेयर एसोसीएसन तानडोर की हलफ़ बर्दारी तक़रीब के दौरान मर्कज़ी वज़ीर ऐस जुए पाल रेड्डी को मुख़्तलिफ़ लोगों की जानिब से याददाश्तें पेश की गई । मुहम्मद अफ़्सर मुहम्मद लायक़ अली मुहम्मद अमजद अली-ओ-दीगर ने वज़ीर मौसूफ़ को पेश की गई अपनी याददाश्त में तानडोर ता हैदराबाद के लिए ख़ुसूसी ट्रेन के आग़ाज़ का मुतालिबा किया और तानडोर रेलवे स्टेशन पर तमाम ट्रेनों को रोकने के मुताल्लिक़ हिदायत जारी करने की अपील की ।

इस मौक़ा पर मोअज़्ज़िज़ीन मुक़ामी क़ाइदीन की कसीर तादाद मौजूद थी । बादअज़ां मर्कज़ी वज़ीर एस जए पाल रेड्डी ने दरगाह सैयद अबदुल करीम पहुंच कर गुलहाए अक़ीदत पेश किए । इस मौक़ा पर सय्यद अबदुलग़नी पाशाह सज्जादा-ओ-मुतवल्ली सय्यद अबदुल ग़फ़ूर पाशा मोतमिद दरगाह शरीफ़ ने वज़ीर मौसूफ़ का इस्तिक़बाल किया और उन के एज़ाज़ में ज़ुहराना का एहतिमाम किया गया । इस मौक़ा पर सदर ईदगाह क़ब्रिस्तान कमेटी मुहम्मद यूसुफ़ ख़ान की नुमाइंदगी पर ऐस जय पाल रेड्डी दरगाह शरीफ़ से जदीद ईदगाह रवाना हुए और ईदगाह में दरकार तमाम सहूलयात में मुकम्मल तआवुन का तीक़न दिया ।

TOPPOPULARRECENT