Monday , December 18 2017

हिंदूस्तान सरमाया कारी के लिए पसंदीदा तरीन मुल्क

लंदन में मौजूद मारूफ़ एन आर आई सनअत कार लार्ड स्वराज पाल ने आज एक अहम ब्यान देते हुए हिंदूस्तान को एक ऐसा मुल्क़ क़रार दिया जहां सरमाया कारी करना किसी के लिए भी पसंदीदा हो सकता है। हिंदूस्तान में आज वो कशिश है कि सरमाया कार यहां सरमाया

लंदन में मौजूद मारूफ़ एन आर आई सनअत कार लार्ड स्वराज पाल ने आज एक अहम ब्यान देते हुए हिंदूस्तान को एक ऐसा मुल्क़ क़रार दिया जहां सरमाया कारी करना किसी के लिए भी पसंदीदा हो सकता है। हिंदूस्तान में आज वो कशिश है कि सरमाया कार यहां सरमाया कारी करने में ज़रा बराबर हिचकिचाहट का मुज़ाहरा नहीं करते लिहाज़ा उन्होंने वोडाफोन तर्ज़ की सौदेबाज़ी के लिए टैक्स नैट में क़ानून में तरमीम किए जाने की ताईद नहीं की।

याद रहे कि जब लार्ड स्वराज पाल से ये इस्तिफ़सार किया गया कि क्या इनकम टैक्स क़ानून में मुजव्वज़ा तरमीम से सरमाया कारी करने वालों का एतेमाद मुतज़लज़ल होगा जिस पर उन्होंने वज़ाहत करते हुए कहा कि उन की नज़र में हिंदूस्तान वाहिद ऐसा मुल्क है जहां सरमाया कार ख़ुशी ख़ुशी सरमाया कारी करते हैं।

जब भी ऐसा होता है तो लोगों को ग़ैर ज़रूरी शोर शराबा करने की आदत पड़ गई है। उन्होंने पी टी आई से बात करते हुए कहा कि सरमाया कारी के फ़ैसले सिर्फ टैक्स के मुआमलात से नहीं किए जाते। अवाम हमेशा पूरे पैकेज पर नज़र रखते हैं। वो ये जानने की कोशिश करते हैं कि क्या हिंदूस्तान सरमाया कारी के लिए एक दोस्त मुल्क है? उन्होंने मज़ीद कहा कि इस मुजव्वज़ा तरमीम का कुछ ना कुछ मनफ़ी असर होगा लेकिन ये ज़्यादा दिनों तक क़ायम नहीं रहेगा।

हुकूमत इनकम टैक्स क़ानून में तरमीम का इरादा रखती है। ये फ़ैसला दरअसल सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसला के बाद हुआ है जहां बर्तानवी टेलीकॉम कंपनी वडाफ़ोन के 11000 करोड़ टैक्स तनाज़ा में फ़ैसला कंपनी की ताईद में दिया था। याद रहे कि ये तनाज़ा उस वक़्त पैदा हुआ था जब हच एसार के 67 फ़ीसद हिसस वोडाफोन ने हासिल किए थे। लार्ड स्वराज पाल फ़िलहाल हिंदूस्तान के दौरा पर हैं।

इन्होंने कहा कि बर्तानिया ने भी इस नौईयत की तरमीम की है।

TOPPOPULARRECENT