Thursday , December 14 2017

हिंद-पाक संबंधों के सुधार पाकिस्तानी रवैये से प्रभावित

नई दिल्ली: भारत सरकार ने इस आरोप को सख्ती से खारिज कर दिया कि पिछले दो वर्षों में पाकिस्तान से संबंधित इस नीति अस्थिर रहा है और वह सही तौर पर‌ समझती है कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने जानबूझकर कश्मीर समस्या को हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वाणी की मौत के बाद बड़े पैमाने पर उछाला है क्योंकि यह है कि वे परिणामस्वरूप उनसे इस्तीफे की मांग करने वाले विपक्ष के दबाव से सार्वजनिक ध्यान हटाना चाहते थे। इसी महीने के अंत में संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक में जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शरीक नहीं होंगे इसलिए वहां प्रधानमंत्री पाकिस्तान द्वारा कश्मीर पर संभावित प्रचार का जवाब देने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज तैयारियां कर रही हैं। यह पूछे जाने पर अगर श्री शरीफ ने कश्मीर घाटी के मौजूदा अशांति को उछाला तो भारत जवाब कैसे देंगे, सूत्रों ने बस इतना कहा कि इंतजार कीजिए। सूत्रों का कहना है कि स्वराज राष्ट्राध्यक्षों और सरकार के भाषण के बाद भाषण करेंगी तब तक उन्हें शरीफ की बातों का ज्ञान हो चुका होगा|

इस‌ में कोई दो राय नहीं कि भारतीय अरबाब विकल्प पता है कि कश्मीर में हिंसा की ताजा लहर पाकिस्तान द्वारा वित्तीय, नैतिक और कूटनीतिक समर्थन और सहायता प्राप्त है। यह पूछे जाने पर कि क्या नरेंद्र मोदी नवंबर दक्षेस शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए पाकिस्तान जाएंगे, सूत्रों ने कहा कि अभी इस संबंध में कोई सलह‌ नहीं किया गया। जहां तक नवाज शरीफ का संबंध है तो मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद भारत से रिश्ते बेहतर करने की उन्होंने चाहे इच्छा जताई थी लेकिन अब जो उनके व्यवहार में बदलाव आया है उसमें आंतरिक समस्याओं का हस्तक्षेप है। उनके बेटों तक पनामा पत्र में नाम आ गया है और विपक्ष वाले विशेष रूप से पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के प्रमुख इमरान खान उन्हें बुरी तरह निशाना बनाए हुए हीं. पाकिस्तान ने सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल नासिर खां जनजूिह को अपना राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार बनाया। दिसंबर 2015 में बैंकाक में उन्होंने अपने भारतीय समकक्ष अजित दोल से गुप्त‌नीय मुलाकात की। समझा जाता है कि इस मलाकात के बाद ही विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पाकिस्तान जाने की राह हमवार हुई .सूराज ने पाकिस्तान जाकर शरीफ परिवार को बुलाया।

वह नवाज शरीफ, उसकी माँ, बेटी और पोतों से मिलीं। नवाज शरीफ के माँ ने तो कहा जाता है कि भावनात्मक होकर स्वराज पंजाबी भाषा में कहा कि ” तो मेरे वतन तो आई है, यह खूनखराबा बंद कराओ और शांति करो। नवाज शरीफ ने ही स्वराज को यही छाप दिया कि वह भारत के साथ स्थायी शांति चाहते हैं। मोदी ने श्री शरीफ को उनके जन्मदिन की बधाई दी और शरीफ परिवार एक शादी में भाग लिया। अब दोनों देशों के विदेश सचिव जनवरी 2016 में अपनी बातचीत का एजेंडा तय कर ही रहे थे कि पाकिस्तान से आतंकवादियों ने पठानकोट एयर बेस पर हमला करदिया.उन्होंने बुरहान वाणी को ‘शहीद और स्वतंत्रता सेनानी’ करार दिया.नवाज़ शरीफ आतंकवादियों को स्वतंत्रता सेनानियों बताया। इस तरह सार्थक बातचीत के नवीकरण के सभी रास्ते बंद हो गए।

TOPPOPULARRECENT