Wednesday , September 26 2018

हिंद‍-पाक फ़ौजी ओहदेदारों का दहशतगर्दी पर तबादला-ए-ख़्याल : वज़ीरे ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद

जंग किसी भी मसला का हल ना होने का इद्दिआ करते हुए वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद ने कहा कि हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के फ़ौजी ओहदेदार दहशतगर्दी के मसले पर तबादला-ए-ख़्याल के लिए एक इजलास मुनाक़िद करेंगे। उन्होंने कहा कि दहशतगर्दी पर क़ा

जंग किसी भी मसला का हल ना होने का इद्दिआ करते हुए वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद ने कहा कि हिन्दुस्तान और पाकिस्तान के फ़ौजी ओहदेदार दहशतगर्दी के मसले पर तबादला-ए-ख़्याल के लिए एक इजलास मुनाक़िद करेंगे। उन्होंने कहा कि दहशतगर्दी पर क़ाबू पाने केलिए दोनों ममालिक के फ़ौजी ओहदेदार मुज़ाकरात करेंगे क्योंकि जंग किसी भी मसले का हल नहीं होती। कल एक प्रे‍स कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए हिन्दुस्तान के वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सलमान ख़ुरशीद ने कहा कि हिन्दुस्तान के वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह और वज़ीर पाकिस्तान नवाज़ शरीफ़ के बीच बातचीत मुसबत थी।

सलमान ख़ुरशीद ने कहा कि नवाज़ शरीफ़ ने हिन्दुस्तानी और पाकिस्तानी ओहदेदारों की एक मुशतर्का टीम तशकील देने की तजवीज़ पेश की है ताकि ख़ित्ता क़बज़ा पर सरहद पार से दरअंदाज़ी के मसले से निमटा जा सके। उन्होंने कहा कि वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने बातचीत के दौरान कहा कि दोनों ममालिक की अफ़्वाज एक दूसरे को मालूमात से वाक़िफ़ करवा सकती हैं। ख़ित्ता क़बज़ा पर हक़ीक़ी सूरतेहाल के बारे में मालूमात का बाहमी तबादला किया जा सकता है।

वज़ीरे आज़म पाकिस्तान नवाज़शरीफ़ ने डाक्टर मनमोहन सिंह की इस तजवीज़ से इत्तिफ़ाक़ किया। सलमान ख़ुरशीद ने कहा कि नवाज़ शरीफ़ ने अज़खु़द दहशतगर्द सरगर्मीयों पर बेचैनी महसूस की। वो चाहते थे कि हिन्दुस्तान के साथ ख़ुशगवार ताल्लुक़ात क़ायम हो लेकिन पाकिस्तान के बाअज़ अनासिर इस में रुकावट पैदा कररहे हैं। वो बिलवासता तौर पर दाएं बाज़ू की इंतिहा-ए-पसंद मज़हबी जमातों का हवाला दे रहे थे जो पाकिस्तान में क़ायम हैं।

TOPPOPULARRECENT