Sunday , December 17 2017

हिंद-अमरीकी सिफ़ारती ताल्लुक़ात मुतास्सिर ना होने की तवक़्क़ो

अमरीका ने तवक़्क़ो ज़ाहिर की है कि न्यूयॉर्क में हिंदुस्तानी डिप्टी कौंसिल जेनरल की गिरफ़्तारी से हिंद - अमरीका दो रुख़ी ताल्लुक़ात पर मन्फ़ी असरात मुरत्तिब नहीं होंगे।

अमरीका ने तवक़्क़ो ज़ाहिर की है कि न्यूयॉर्क में हिंदुस्तानी डिप्टी कौंसिल जेनरल की गिरफ़्तारी से हिंद – अमरीका दो रुख़ी ताल्लुक़ात पर मन्फ़ी असरात मुरत्तिब नहीं होंगे।

याद रहे कि डिप्टी कौंसिल जेनरल की गिरफ़्तारी पर हिंदुस्तान ने सख़्त रद्दे अमल का मुज़ाहरा किया है और ये कहकर अमरीका को अपने मौक़िफ़ से वाक़िफ़ करवा दिया कि अमरीका की ये हरकत हिंदुस्तान के लिए नाक़ाबिले क़ुबूल है।

हिंदुस्तान ने अपने मौक़िफ़ का इज़हार नई दिल्ली में वाक़े अमरीकी सफ़ीर के साथ भी इस मुआमला को सख़्ती से निमटने का मुतालिबा किया। वहीं दूसरी तरफ़ अमरीकी स्टेट डिपार्टमेंट ने भी एक ब्यान जारी किया है जिस में ये कहा गया है कि अमरीका इस मुआमले से बख़ूबी निमटने कोशां है।

हिंदुस्तान को ये एतराज़ है कि देवयानी एक सिफ़ारती ओहदेदार हैं और उन के साथ आम मुजरिमों जैसा सुलूक किया गया। बरसरे आम हथकड़ी पहनाकर आख़िर अमरीका क्या साबित करना चाहता है?

TOPPOPULARRECENT