Friday , December 15 2017

हिंद -‍ अमरीका ताल्लुक़ात की राह में कोई रुकावट नहीं : मनमोहन सिंह

बाली ( इंडोनेशिया ) 19 नवंबर ( पी टी आई ) वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने ऐलान किया कि हिंद । अमरीका ताल्लुक़ात की राह में कोई रुकावटें नहीं हैं ।

बाली ( इंडोनेशिया ) 19 नवंबर ( पी टी आई ) वज़ीर-ए-आज़म डाक्टर मनमोहन सिंह ने ऐलान किया कि हिंद । अमरीका ताल्लुक़ात की राह में कोई रुकावटें नहीं हैं ।

डाक्टर सिंह ने आज यहां बाली में अमरीकी सदर मिस्टर बारक ओबामा से मुलाक़ात की और उन के साथ सियोल न्यूकलीयर मुआहिदा पर अमल आवरी की राहें तलाश करने पर तबादला-ए-ख़्याल किया है । मनमोहन सिंह ने गुज़शता साल माह नवंबर में बारक ओबामा के दौरा हिंद के बाद पहली मर्तबा उन से मुलाक़ात की है और हिक्मत-ए-अमली ताल्लुक़ात को मुस्तहकम करने के ताल्लुक़ से भी तबादला-ए-ख़्याल किया ।

इन बाहमी ताल्लुक़ात को बारक ओबामा के गुज़शता साल दौरा हिंदूस्तान के मौक़ा पर नई जिहत अता हुई थी । डाक्टर सिंह ने बाहमी मुलाक़ात के मौक़ा पर कहा कि वो उन्हें ( ओबामा को ) ये इत्तिला देते हुए ख़ुशी महसूस कर रहे हैं कि बाहमी और आलमी मसाइल पर साथ मिल कर काम करने की राह में किसी तरह की कोई रुकावट नहीं है ।

आसियान और मशरिक़ एशिया चोटी कान्फ़्रैंस के मौक़ा पर अपनी एक घंटा तवील मुलाक़ात के बाद बाहर आते हुए डाक्टर सिंह ने कहा कि उन्हें बारक ओबामा पर सियोल न्यूकलीयर मुआहिदा पर हर्जाना के मसला पर मलिक के क़ानून को वाज़िह करदिया है । उन्हों ने कहा कि वो मिस्टर ओबामा पर ये वाज़िह करचुके हैं कि हिंदूस्तान में एक क़ानून नाफ़िज़ है ।

इस के क़वाइद को क़तईयत देदी गई है ये क़वानीन मुल़्क की पार्लीमैंट में 30 दिन तक रहेंगी । इस लिए हिंदूस्तान ने अमरीकी कंपनीयों की तशवीश को दूर करने कुछ इक़दामात किए हैं और ये इक़दामात भी हिंदूस्तान के क़वानीन के दायरा में हैं और हम किसी भी तरह की मख़सूस शिकायात की समाअत करने तैय्यार हैं। वज़ीर-ए-आज़म ने ये भी कहा कि हिंदूस्तान न्यूकलीयर तबाही की सूरत में ज़िमनी मुआवज़ा के कनवेनशन को मंज़ूरी देने भी तैय्यार है ।

उन्हों ने कहा कि वो ओबामा को वाक़िफ़ करवा चुके हैं कि हम इस कनवेनशन को भी मंज़ूरी देने तैय्यार हैं। गुज़शता साल नवंबर में ओबामा के तारीख़ी दौरा हिंदूस्तान की याद ताज़ा करते हुए डाक्टर सिंह ने कहा कि गुज़शता एक साल में दोनों मुल्कों ने तक़रीबन हर सिम्त में पेशरफ़त की है और सरमाया कारी तिजारत आली तालीम और दिफ़ा के अहम तरीन शोबा जात में बाहमी तआवुन को मुस्तहकम किया है ।

मिस्टर ओबामा ने भी अपने इफ़्तिताही कलिमात में गुज़शता साल अपने ग़ैरमामूली दौरा हिंदूस्तान का तज़किरा क्या । इस दौरा के मौक़ा पर दोनों ममालिक ने दोस्ती तिजारती ताल्लुक़ात और सीकीवरीटी तआवुन पर ताल्लुक़ात को मुस्तहकम किया था ।

उन्हों ने कहा कि अब भी दोनों मुल्कों के माबैन अहम मसाइल पर ताल्लुक़ात में पेशरफ़त हो रही है । दोनों मुल्कों की दोस्ती सिर्फ़ क़ियादत की सतह पर ही नहीं बल्कि शख़्सी सतह पर भी है । उन्हों ने कहा कि दोनों मुल्कों केलिए ये एक मुनफ़रद मौक़ा है कि वो मिल जल कर काम करने के नए तरीक़ा तलाश करना जारी रखें और इश्तिराक सिर्फ़ बाहमी महाज़ पर भी नहीं बल्कि हमा क़ौमी सतह पर भी होने चाहिऐं।

उन्हों ने बहरी सलामती अदम फीलाॶ और दहश्तगर्दी जैसे मसाइल पर हिंदूस्तान और अमरीका के माबैन ताल्लुक़ात के इस्तिहकाम पर ज़ोर दिया । दोनों क़ाइदीन ने एक दूसरे से ख़ुशगवार अंदाज़ में मुलाक़ात की और एक बार फिर मुलाक़ात होने पर मुसर्रत का इज़हार क्या ।

इस मुलाक़ात से क़बल हिंदूस्तान ने ये वाज़िह किया था न्यूकलीयर हर्जाना और मुआवज़ा के ताल्लुक़ से हिंदूस्तानी क़वानीन है की एहमीयत रहेगी और फ़ो को शीमा वाक़िया के बाद से कोई और इस्तिदलाल काबिल-ए-क़बूल नहीं होगा । ज़राए ने कहा कि क़वानीन ऐसे होने चाहिऐं जिन से बैरूनी कंपनीयों की तशवीश को दूर किया जा सके और ये वाज़िह होना चाहीए कि हर्जाना ग़ैर महिदूद और ग़ैर मुख़्ततम नहीं होगा।

TOPPOPULARRECENT