Monday , December 18 2017

हिन्दुतवा की बुनियाद के साथ ताक़तवर मुल्क की तामीर

आर एस एस का मक़सद: मोहन भागवत

आर एस एस का मक़सद: मोहन भागवत
पटना। 22जुलाई (पी टी आई)। इस तसव्वुर को ग़लत क़रार देते हुए कि राष्ट्रीय स्वयम् सेवक सिंह (आर एस एस) बी जे पी के नज़रियात की बुनियाद है, तंज़ीम के सरबराह मोहन भागवत ने कहा कि आर एस एस की सरगर्मियों का निचोड़ एक ताक़तवर हिन्दुस्तान की तामीर है जिस की बुनियाद हिन्दुतवा पर हो।

वो श्रावण पूर्णिमा के मौक़े पर एक इजतिमे से ख़िताब कररहे थे। उन्होंने कहा कि मुआशरे में सिंह के बारे में कई गलतफहमियां फैली हुई हैं। लोग सिंह के बारे में बहुत कुछ कहते हैं, हालाँकि वो उसकी सरगर्मियों की बुनियाद से भी नावाक़िफ़ हैं। मोहन भागवत ने कहा कि हिन्दुस्तान की बुनियाद हिंदूतवा है।

ये उसकी शनाख़्त है। उन्होंने कहा कि ये समझना ग़लत होगा कि हिन्दुतवा सिर्फ़ एक नज़रिया है जिसका ताल्लुक़ सिर्फ़ एक मज़हब यह तबक़े से है। आर एस एस के सर संचालक ने कहा कि किसी भी सियासी पार्टी का लीडर मुल्क को ताक़तवर बनाने के लिए उस वक़्त तक कुछ नहीं करसकता, जब तक कि दुरुस्त नज़रिये की बुनियाद पर मुआशरे की इस्लाह ना की जाये।

आर एस एस लोक सभा इंतेख़ाबात में नरेंद्र मोती की ताईद कररही है, क्योंकी सिंह का मक़सद मुआशरे में तबदीली लाना है और मुल्क को एक दरुस्त लीडर के हाथों सोंपना है। उन्होंने कहा कि तबदीली हमेशा मुआशरे से आती है, सियासत से नहीं। बरसर‍-ए‍-इक़तेदार अफ़राद की तबदीली से कुछ ज़्यादा फ़र्क़ नहीं पड़ता। दरुस्त किस्म की समाजी तबदीली जिस की बुनियाद हिंदूतवा हो, ज़रूरी है।

TOPPOPULARRECENT