Sunday , December 17 2017

हिन्दुस्तानी मईशत की साख में इज़ाफ़ा ज़रूरी :जेटली

निजी शोबे पर-ज़ोर देते हुए कि एहतियात तर्क कर दे और सरमायाकारी करें। मर्कज़ी वज़ीर फाइनेंस अरूण जेटली ने कहा कि ये लाज़िमी हो गया है कि हम हिन्दुस्तानी मईशत की साख में इज़ाफ़ा करें क्योंकि पूरी दुनिया की नज़रें हमारे मुल्क पर जमी हुई है जो उसे आलमी माशी इन्हितात की लहर के दौरान एक दरख़शां मुक़ाम समझती हैं क्योंकि हमारी शरह तरक़्क़ी 7 फ़ीसद से ज़्यादा है।

सरमायाकार हिन्दुस्तान में तहक़ीक़ात कर रहे हैं और हिन्दुस्तान के बारे में उनका ख़्याल मुसबत हैं। हमें चाहिए कि इदारा जाती इस्लाहात जारी रखें। हिन्दुस्तानी मईशत में इस्लाहात करें सरकारी अख़राजात पर तवज्जे मर्कूज़ करें और ज़्यादा रास्त ग़ैर मुल्की सरमायाकारी के लिए कोशिश करें। वो पीटीआई को एक इंटरव्यू दे रहे थे। वो आलमी माशी फ़ोर्म डब्लयू ई एफ़ के सालाना इजलास में शिरकत करने के लिए जो कल रात इख़तेताम पज़ीर हुआ यहां आए हुए थे|

TOPPOPULARRECENT