Tuesday , December 12 2017

हिज़्बुल्लाह और ईरानी इन्टॆलीजॆन्स की सफ़ों में शामिल सी आई ए के एजैंट गिरफ़्तार

दुबई २३ नवंबर (यू एन आई)लॆबनान में शीया मलेशिया हिज़्बुल्लाह और ईरान में इन्टॆलिजॆन्स् की सफ़ों में अमरीकी खु़फ़ीया एजैंसी सी आई ए केलिए सरगर्म मुक़ामी एजॆटों को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

दुबई २३ नवंबर (यू एन आई)लॆबनान में शीया मलेशिया हिज़्बुल्लाह और ईरान में इन्टॆलिजॆन्स् की सफ़ों में अमरीकी खु़फ़ीया एजैंसी सी आई ए केलिए सरगर्म मुक़ामी एजॆटों को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

अमरीका ने मुबय्यना तौर पर कहा है कि सी आई ए केलिए जासूसी करने वाले गिरफ़्तार शुदगान अमरीकी नहीं थे बल्कि मुक़ामी तौर पर भर्ती किए हुए ऐसे लोग थे जो अपनी लापरवाही के सबब पकड़े गए हैं। एक साबिक़ अमरीकी अहलकार के बाक़ौल हिज़्बुल्लाह मशरिक़ वुसता और बहीरा रुम के मुल्कों में अमरीकी सिफ़ारतख़ानों में भी मुख़्तलिफ़ हियलों बहानों से अपने जासूसों को दाख़िल करती है ताकि अमरीकी एहदाफ़ पर हमलों की मंसूबा बंदी करने में आसानी हो।

सी आई ए के साबिक़ ऑप्रेशन अफ़्सर और जासूसी की खु़फ़ीया दुनिया से मुताल्लिक़ कई किताबों के मुसन्निफ़ बोब बावर के हवाले से मीडीया ने ख़बर दी है कि उन्हों ने हिज़्बुल्लाह की इन्टॆलिजॆन्स् की सताइश करते हुए कहा है कि ये साबिक़ सोवीयत यूनीयन की खु़फ़ीया एजैंसी के जी बी से भी बेहतर है।

अमरीका ने हिज़्बुल्लाह को दहश्तगर्द तंज़ीम क़रार दे रखा है। अमरीकी हुक्काम ने हर चंद कि दोनों मुल्कों में सी आई ए के नुक़्सानात की ज़्यादा तफ़सीलात नहीं बताएं मगर कहा कि नुक़्सान संगीन है ।नाम ज़ाहिर ना करने की शर्त पर एक अमरीकी अहलकार ने राईटर को बताया कि जासूसी एक ख़तरनाक अमल है जिस में अपने हरीफ़ों के बारे में खु़फ़ीया मालूमात हासिल करने की कोशिशें उस वक़्त ख़तरे से ख़ाली नहीं होतीं जब कोई अपने दरमयान जासूसों का खोज लगाने की भी कोशिशें कर रहा हूं।

TOPPOPULARRECENT