हुकूमत की अक्सरीयत घट गई : बी जे पी

हुकूमत की अक्सरीयत घट गई : बी जे पी
तृणमूल कांग्रेस के मसला पर यू पी ए हुकूमत ने सयासी तूफ़ान उठने के बाद भारतीय जनता पार्टी को ये कहने का मौक़ा मिल गया है कि इस हुकूमत की अक्सरीयत घट गई है। वो पार्लीमेंट में सदारती ख़ुतबा में तरमीमात का सामना करने से राह फ़रार इख्तेया

तृणमूल कांग्रेस के मसला पर यू पी ए हुकूमत ने सयासी तूफ़ान उठने के बाद भारतीय जनता पार्टी को ये कहने का मौक़ा मिल गया है कि इस हुकूमत की अक्सरीयत घट गई है। वो पार्लीमेंट में सदारती ख़ुतबा में तरमीमात का सामना करने से राह फ़रार इख्तेयार कर रही है।

जबकि वज़ीर-ए-पार्लीमानी उमूर पवन कुमार बंसल ने कहा कि हुकूमत के पास अददी ताक़त का मसला नहीं है। लोक सभा में अपोज़ीशन लीडर सुषमा स्वराज ने कहा कि मिस्टर बंसल ने इस बात का एतराफ़ किया है कि सदारती ख़ुतबा पर तहरीक तशक्कुर आज मुकम्मल हो गया है।

इसके बाद ही इस में तरमीमात की जाएंगी और इस ख़ुतबा को राय दही के लिए पेश किया जाएगा, लेकिन ये मसला पीर ( सोमवार) तक केलिए मोख़र कर दिया गया। सुषमा स्वराज ने इल्ज़ाम आइद किया कि हुकूमत ने बुनियादी ख़ैरसिगाली का जज़बा ज़ाहिर नहीं किया और अपोज़ीशन को इसकी इत्तिला नहीं दी कि इसने तहरीक तशक्कुर पर राय दही केलिए अपना मंसूबा तब्दील कर दिया है।

हुकूमत ने अपने मंसूबे से मुताल्लिक़ अपोज़ीशन को तारीकी में रखा। इससे ज़ाहिर होता है कि हुकूमत बोहरान का शिकार है और इसकी तादाद भी घट गई है। वो वक़्त का सहारा लेते हुए ख़ुद को बचाना चाह रही है। अगर हुकूमत के पास तरमीमात के साथ तहरीक तशक्कुर मंज़ूर कराने अरकान की तादाद नहीं है तो ऐसी हुकूमत की नौईयत क्या होगी। बी जे पी और एन डी ए तरमीमात के लिए बज़िद हैं। ख़ासकर एन सी टी सी के मसला पर तरमीमात चाहते हैं।

Top Stories