Wednesday , December 13 2017

हुकूमत की ख़ुद रोज़गार स्कीम, इदख़ाल दरख़ास्त की तारीख़ में तौसीअ

रियास्ती हुकूमत ने ख़ुद रोज़गार स्कीम के तहत अक़लीयतों और दीगर कमज़ोर तबक़ात के लिए शुरू की गई नई स्कीम से इस्तिफ़ादा की तारीख़ में 21 जनवरी से 31 जनवरी तक तौसीअ का फ़ैसला किया है ताहम स्कीम से इस्तिफ़ादा के लिए उम्र की हद में इज़ाफ़ा की त

रियास्ती हुकूमत ने ख़ुद रोज़गार स्कीम के तहत अक़लीयतों और दीगर कमज़ोर तबक़ात के लिए शुरू की गई नई स्कीम से इस्तिफ़ादा की तारीख़ में 21 जनवरी से 31 जनवरी तक तौसीअ का फ़ैसला किया है ताहम स्कीम से इस्तिफ़ादा के लिए उम्र की हद में इज़ाफ़ा की तजवीज़ को क़ुबूल नहीं किया गया।

ख़ुद रोज़गार स्कीम पर अमल आवरी का जायज़ा लेने के लिए आज चीफ़ सेक्रेट्री डॉक्टर पी के मोहंती के पास इजलास मुनाक़िद हुआ जिस में अक़लीयती बहबूद के इलावा बी सी, एस सी, एस टी, वूमेन्स और माज़ूरीन से मुताल्लिक़ कार्पोरेशनों के ओहदेदारों और मह्कमाजात के ओहदेदारों ने शिरकत की।

वाज़ेह रहे कि हुकूमत ने 31 दिसंबर को जी ओ एम एस 101 जारी करते हुए ख़ुद रोज़गार स्कीम के तहत 1708 करोड़ रुपये बतौर सब्सीडी जारी करने का फ़ैसला किया है।

स्पेशल सेक्रेट्री अक़लीयती बहबूद सय्यद उमर जलील ने इजलास में तजवीज़ पेश की कि दरख़ास्तों के इदख़ाल के लिए तारीख़ में तौसीअ की जाए क्योंकि साबिक़ा अहकामात के तहत 21 जनवरी आख़िरी तारीख़ मुक़र्रर की गई है और अवाम अभी तक इस स्कीम से बेहतर तौर पर वाक़िफ़ नहीं हुए हैं।

सय्यद उमर जलील ने अक़लीयतों के लिए इस स्कीम से इस्तिफ़ादा की अहलीयत की उम्र की हद को 40 साल से बढ़ाने की तजवीज़ पेश की। अक़लीयती फ़ाइनेन्स कारपोरेशन के तहत ग़रीब अक़लीयतों को छोटे कारोबार के हुसूल के लिए फी कस 30 हज़ार रुपये सब्सीडी फ़राहमी से मुताल्लिक़ साबिक़ा स्कीम से इस्तिफ़ादा के लिए उम्र की हद 18 ता 55 साल मुक़र्रर की गई थी।

उन्हों ने कहा कि चूँकि वक़्त कम है लिहाज़ा अक़लीयतों को इस स्कीम से इस्तिफ़ादा में सरअत का मुज़ाहरा करना चाहीए। उन्हों ने अक़लीयती अवामी नुमाइंदों, सियासी और ग़ैर सियासी तंज़ीमों से भी अपील की कि वो स्कीम से भरपूर इस्तिफ़ादा के लिए मुस्तहिक़ अफ़राद में शऊर बेदारी की मुहिम चलाएं।

TOPPOPULARRECENT