Monday , December 18 2017

हुसूले वज़ारत के लिए जद्द-ओ-जहद शुरू

नौ तशकील शूदा रियासत तेलंगाना में टी आर एस की हुकूमत में काबीना की शमूलीयत के लिए ज़िला के 2 या 3 एम एल अज़ को जगह मिलने के क़वी इमकानात हैं।

नौ तशकील शूदा रियासत तेलंगाना में टी आर एस की हुकूमत में काबीना की शमूलीयत के लिए ज़िला के 2 या 3 एम एल अज़ को जगह मिलने के क़वी इमकानात हैं।

ज़िला के 14 असेंबली हलक़ा जात के मिनजुमला 7 असेंबली हलक़ों महबूबनगर , शादनगर , जड़चरला , देवर कुदरा , नागर करोल , उच्चम पीटी और कोला पर टी आर एस ने कामयाबी हासिल की है।

तेलंगाना के जुनूब में ज़िला महबूबनगर से ही टी आर एस ज़्यादा नशिस्तें हासिल की है। चुनाव मुहिम के दौरान टी आर एस सरबराह के चन्द्र शेखर राव ने अवाम से वादा किया था कि नागर करनूल को ज़िला का दर्जा दिया जाएगा।

नई काबीना में शमूलीयत के लिए टी आर एस अरकाने असेंबली मुम्किना कोशिश कर रहे हैं। हलक़ा असेंबली कोला पर से टी आर एस के कामयाब क़ाइद जोपली कृष्णा राव‌ 2004 और 2009 की कांग्रेस काबीना में वज़ीर रह चुके हैं।

अलाहिदा तेलंगाना के लिए कांग्रेस पार्टी और असेंबली की रुकनीयत से मुस्ताफ़ी होकर उन्होंने 2012 में टी आर एस के टिकट पर मुक़ाबला किया और कामयाब हुए थे उन का नाम महबूबनगर से काबीना में शामिल होने वाले उम्मीदवारों में सर-ए-फ़हरिस्त है।

जबकि इन का ताल्लुक़ वीलमा तबक़ा से भी है दूसरा नाम जड़चरला के रुकने असेंबली डॉ सी लकशमा रेड्डी का ज़ेरे ग़ौर रहने की इत्तिला है।

लकशमा रेड्डी इब्तिदा ही से टी आर एस से वाबस्ता रहे। पार्टी के ज़िलई सदर और लाइब्रेरीज़ के सदर नशीन के ओहदे पर भी फ़ाइज़ रहे।

मौसूफ़ के सी आर के बाएतेमाद रफ़ीक़ समझे जाते हैं। तीसरा नाम महबूबनगर से मुंतख़ब रुकने असेंबली वि श्रीनिवास गौड़ का भी गशत में रहने की इत्तिलाआत हैं।

श्रीनिवास गौड़ ने अलाहिदा तेलंगाना में जय ए सी क़ाइद की हैसियत से सरगर्म रोल अदा किया था। अपनी मुलाज़मत से इस्तीफ़ा देकर हलक़ा असेंबली महबूबनगर से मुक़ाबला क्या।

अब देखना ये हैके 2 जून के बाद तशकील काबीना में कौन जगह हासिल करता है और किस को क्या क़लमदान मिल सकता है

TOPPOPULARRECENT