Thursday , June 21 2018

हैदराबाद-ओ-रंगारेड्डी में 90 फ़ीसद वक़्फ़ अराज़ी पर ग़ैर मजाज़ क़बज़े

तेलंगाना हुकूमत ने हैदराबाद और रंगारेड्डी में सरकारी, वक़्फ़, इंडोमेंट और दुसरे आराज़ीयात की तफ़सीलात हासिल करने का फ़ैसला किया है।

तेलंगाना हुकूमत ने हैदराबाद और रंगारेड्डी में सरकारी, वक़्फ़, इंडोमेंट और दुसरे आराज़ीयात की तफ़सीलात हासिल करने का फ़ैसला किया है।

इस सिलसिले में चीफ़ सेक्रेटरी डॉ राजीव शर्मा ने आज तमाम मह्कमाजात के आला ओहदेदारों के साथ मीटिंग तलब किया जिस में हिदायत दी गई के हर महिकमा इस के तहत अराज़ी की तफ़सीलात सरकारी पोर्टल पर शामिल करदे।

इस आला सतही मीटिंग में ओक़ाफ़ी आराज़ीयात के बारे में बाज़ दिलचस्प इन्किशाफ़ात मंज़रे आम पर आए। हैदराबाद में मौजूद ओक़ाफ़ी आराज़ीयात में एक गज़ भी ख़ाली नहीं जबकि रंगारेड्डी में किसी हद तक खुली वक़्फ़ अराज़ी मौजूद हैं। दोनों अज़ला में 90 फ़ीसद ओक़ाफ़ी आराज़ीयात पर नाजायज़ क़बज़े हैं।

मीटिंग में पेश कीए गए आदाद-ओ-शुमार के मुताबिक़ हैदराबाद में 36 मह्कमाजात के तहत 6 करोड़ 85 लाख मुरब्बा गज़ अराज़ी मौजूद है जबकि रंगारेड्डी में 54 करोड़ 8 लाख मुरब्बा गज़ अराज़ी सरकारी मह्कमाजात के तहत है। ओक़ाफ़ी आराज़ीयात के सिलसिले में पेश किए गए आदाद-ओ-शुमार के मुताबिक़ हैदराबाद में 1775 एकऱ् और रंगारेड्डी में 14785 एकऱ् वक़्फ़ अराज़ी मौजूद है।

दिलचस्प बात ये हैके हैदराबाद में 1469 एकऱ् अराज़ी पर नाजायज़ क़बज़े हैं जबकि रंगारेड्डी में 13487 एकऱ् अराज़ी ग़ैर मजाज़ क़ब्ज़ों के तहत है। हैदराबाद में ग़ैर मजाज़ क़ब्ज़ों के अलावा जो भी अराज़ी है वो खुली अराज़ी नहीं बल्कि मसाजिद, आशूरख़ाने, क़ब्रिस्तान और काम्प्लेक्सों पर मुहीत है।

चीफ़ सेक्रेटरी ने ओहदेदारों को हिदायत दी के वो अराज़ी सर्वे नंबर और इस के मौजूदा मौक़िफ़ से मुताल्लिक़ तफ़सीलात हुकूमत को पेश करें। मीटिंग में दुसरे अक़लियती इदारों के तहत मौजूद जायदादों और आराज़ीयात का भी जायज़ा लिया गया। वक़्फ़ बोर्ड के अलावा किसी और इदारे की हैदराबाद में अराज़ी मौजूद नहीं है जबकि उर्दू एकेडेमी के तहत पुराने शहर के खिलवत इलाके में देढ़ करोड़ रुपय के सर्फ़ा से उर्दू मस्कन तामीर किया गया।

ये इमारत 23000 मुरब्बा गज़ पर मुहीत है। नामपली में 12 करोड़ के सर्फ़ा से हज हाउज़ तामीर किया गया, इस रक़म का ज़्यादा तर हिस्सा दरगाह हज़रत इसहक़ मदनी की आमदनी से मुताल्लिक़ है। हज हाउज़ की तामीर में हज कमेटी ने 94 लाख 60 हज़ार रुपये अपनी हिस्सादारी के तौर पर पेश किए थे। अगरचे ये अराज़ी वक़्फ़ है ताहम हुकूमत ने उसे तामीर किया। मीटिंग में बताया गया कि रेवेन्यू, पुलिस और आर एंड बी के तहत ज़ाइद अराज़ी मौजूद है। बलदी नज़म-ओ-नसक़ और हाउज़िंग मह्कमाजात को भी तफ़सीलात पेश करने की हिदायत दी गई। पुलिस के तहत चरलापली जेल, चंचलगुडा जेल और पुलिस एकेडेमी जैसे इदारे मौजूद हैं।

हुकूमत ने महदीपटनम में वाक़्ये रईतो बाज़ार को अंदरून 6 माह तरक़्क़ी देने का फ़ैसला किया है। ये 3 मंज़िला असरी मार्किट के तौर पर तामीर की जाएगी जिस में तरकारी, मेट और फ़िश के लिए अलाहिदा अलाहिदा सेक्शन होंगे। ग्रांऊड फ़्लोर पर मार्किट होगी जबकि फ़रस्ट फ़्लोर पर कमर्शियल काम्प्लेक्स और सेकंड फ़्लोर पर ग्रीनरी उगाई जाएगी। कमिशनर मजलिस बलदिया ने मीटिंग को बताया कि इस मार्किट को माहौलियात के मुताबिक़ तैयार किया जाएगा ताकि इलाके को साफ़ सुथरा रखा जा सके।

TOPPOPULARRECENT