Sunday , December 17 2017

हैदराबाद को ख़ूबसूरत बनाने के लिए तरक़्क़ीयाती इक़दामात

चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी ने हैदराबाद में अक्टूबर के दौरान मुनाक़िद शुदणी बैन-उल-अक़वामी बायोडाईवरसिटी कनवेनशन की तैयारीयों का आज तफ़सीली जायज़ा लिया। उन्हों ने ओहदेदारों को हिदायत की कि हैदराबाद को आलमी मेयार का शह

चीफ़ मिनिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी ने हैदराबाद में अक्टूबर के दौरान मुनाक़िद शुदणी बैन-उल-अक़वामी बायोडाईवरसिटी कनवेनशन की तैयारीयों का आज तफ़सीली जायज़ा लिया। उन्हों ने ओहदेदारों को हिदायत की कि हैदराबाद को आलमी मेयार का शहर बनाने के लिए 577.35 करोड़ रुपये के मसारिफ़ से तमाम तरक़्क़ीयाती कामों को मुक़र्ररा वक़्त पर मुकम्मल करें ।

वाज़ेह रहे कि शहर में यक्मता 19 अक्टूबर बैन-उल-अक़वामी बायो डाईवसिटी कनवेनशन मुनाक़िद होगा । जिस के पेशे नज़र ग्रेटर हैदराबाद म्यूनसिंपल कारपोरेशन (जी ऐच एम सी) की तरफ़ से मुतअद्दिद तरक़्क़ीयाती काम शुरू किए गए हैं । जिन में सड़कों की तामीर-ओ-मुरम्मत डरेंज निज़ाम में बेहतरी फुट पाथ की निशानदेही सब्ज़ा ज़ार को बेहतर बनाने के काम भी शामिल हैं । ट्रैफ़िक सिग्नल्स तामीर-ओ-दरूस्तगी ट्रैफ़िक आयलैंड्स की दरूस्तगी के काम पर भी तवज्जा मर्कूज़ की जा रही है ।

इस मौक़ा पर मर्कज़ी मीडीया सेंटर क़ायम किया जा रहा है । चंद दूसरे काम जैसे क़ौमी शाहराह की देख भाल बल्कि इमारात-ओ-शवारा को दिए गए हैं । जी ऐच एमसी इलाक़ा में 220 ट्रैफ़िक सिग्नल्स को असरी बनाने का काम ऐच टी आर आई ऐम ऐस प्रोजेक्ट को दिया गया है। इस प्रोजक्ट की लागत 65 करोड़ रुपये है । मसरज़ बी ई एल ( बल) की पहले ही बोली दहिनदा की हैसियत से शनाख़्त की गई है। चुनांचे कनवेनशन के आग़ाज़ से कब्ल पहले मरहले की तकमील के लिए हुकूमत की तरफ़ से फ़नडम फ़राहम किए जाऐंगे।

25 अहम सड़कों की तामीर-ओ-मुरम्मत का प्रोजक्ट भी शुरू किया गया है। सड़कों को मरबूत करने के इलावा फुटपाथ को भी बेहतर बनाया जाएगा ताकि पैदल राहरूहों को बुला रुकावट आमद-ओ-रफ़्त की सहूलत फ़राहम की जा सके बर्क़ी सरबराही करने वाले इदारा सी पी डी सी एल केबल कमेटियां और हैदराबाद मेट्रो वाटर स्पलाई ऐंड सीवरेज बोर्ड के राबिता के साथ जी ऐच एमसी ने बड़े पैमाने पर फुट पाथस को बेहतर बनाने के कामों की निशानदेही की है।

चीफ़ मिनिस्टर ने इस मौक़ा पर तमाम मह्कमाजात को हिदायत की कि वो इन्फ़िरादी तौर पर लायेहा-ए-अमल मुरत्तिब करें और बाहमी रब्त ज़बत के साथ इन प्रोजक्टों की तकमील पर तवज्जा मर्कूज़ करें क्योंकि बैन-उल-अक़वामी कनवेनशन के आग़ाज़ के लिए अब बमुश्किल चंद माह बाक़ी रह गए हैं । हर महकमा को चाहीए कि वो इनफ़रास्ट्रक्चर की बेहतरी के लिए बजट मुख़तस करे और शहर की नई सूरत गेरी करते हुए हैदराबाद को मज़ीद ख़ूबसूरत बनाया जाय ।

मिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने कहा कि मुख़्तलिफ़ मह्कमाजात और इदारों की तरफ़ से जारी कामों में होने वाली पेशरफ़त की बाज़ाबता मुकम्मल निगरानी के लिए एक राबिता कमेटी की तशकील भी ज़रूरी है । चुनांचे इस ज़िमन में महकमा बलदी नज़म-ओ-नसक़-ओ-शहरी तरकुयात के परनसपाल सिक्रेट्री की क़ियादत में कमेटी की तशकील के लिए एक मकतूब पहले ही रवाना किया जाएगा ।

चीफ़ मिनिस्टर ने कहा कि हैदराबाद में 11वें बैन-उल-अक़वामी कान्फ़्रैंस का इनइक़ाद हिंदूस्तान और आंधरा प्रदेश दोनों के लिए बाइस-ए-फ़ख़र-ओ-इफ़्तिख़ार है ।

TOPPOPULARRECENT