Monday , September 24 2018

हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के एक ही नंबर के दो चेक्स

हैदराबाद। 27 दिसंबर: हैदराबाद क्रिकेट एसो में घप‌लों की एक अर्सा से शिकायत पाई जाती है, मगर अब तो बे क़ाईदगियों की इंतिहा होचुकी है कि एसोसिएशन के बैंक चेक्स की निक़लें तय्यार करते हुए घोटाले की एक नाकाम कोशिश की गई है। यूको बैंक के च

हैदराबाद। 27 दिसंबर: हैदराबाद क्रिकेट एसो में घप‌लों की एक अर्सा से शिकायत पाई जाती है, मगर अब तो बे क़ाईदगियों की इंतिहा होचुकी है कि एसोसिएशन के बैंक चेक्स की निक़लें तय्यार करते हुए घोटाले की एक नाकाम कोशिश की गई है। यूको बैंक के चीफ जनरल मेनेजर ने उप्पल पुलिस इस्टेशन में एक शिकायत दर्ज करवाई कि हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के नाम जारी करदा चेक बक्स में मौजूद एक ही नंबर के दो चेक्स मुंबई के एक बैंक की दो अलैहदा अलैहदा शाख़ों में भुनाने के लिए जारी किए गए थे।

बैंक के ज़राए के बमूजब जो चेक्स तन्क़ीह के लिए मुंबई के बैंक आफ़ बडोदा से मौसूल हुए इस नंबर का असल चेक पहले ही हैदराबाद में भुनाया जा चुका था। ये हक़ीक़ी चेक जो 25,000 रुपये का हामिल था, धूलपेट‌ के एक कोच के नाम जारी किया गया था। बादअज़ां सैक्रेटरी हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन एम वे श्रीधर ने कल उप्पल पुलिस इस्टेशन में एक शिकायत दर्ज करवाईकि एसोसिएशन के बैंक एकाऊंट से जारी करदा एक ही नंबर के दो चेक्स को मुंबई की एक कंपनी ब्ल्यू इंटर प्राइज़स की जानिब से बैंक आफ़ बडोदा में पेश किए गए।

उन्होंने अपनी शिकायत में बताया कि चीफ मनेजर यूको बैंक ने मतला किया कि इस ख़सूस में किसी किस्म की धोका दही का शुबा है. चूँकि दोनों चेक दरअसल हक़ीक़ी चेक की फोटोकॉपीज़ हैं और इसी लिए वापिस लौटा दीए गए हैं। शुबा किया जाता है कि धूलपेट‌ के कोच के नाम चेक की इजराई से क़बल उसकेन करते हुए उस की नक़ूल हासिल करली गयी और फिर सदर और ख़ाज़िन की उसकेन करदा दस्तख़तों को सब्त किया गया। सैक्रेटरी एसोसिएशन ने ये भी बयान किया कि मुंबई की मज़कूरा फ़र्म के साथ किसी किस्म की रकमी मुआमलत नहीं की गई।

दोनों चेक्स पर सब्त दस्तख़त मुख़तार दस्तख़त कुनिन्दगान सदर एच सी ए जी विनोद और ख़ाज़िन नरेश शर्मा की दस्तख़तों से मुमासिलत नहीं रखते। यक़ीनन ये दोनों चेक्स जाली हैं। समझा जाता है कि इस धोका दही के तार-ओ-पोद एसोसिएशन के ख़ाज़िन की तरफ़ से इसी पुलिस स्टेशन में यूको बैंक हुक्काम के इलावा ख़ुद अपनी एसोसिएशनके सदर और सैक्रेटरी के ख़िलाफ़ दर्ज करदा एक शिकायत से जा मिलते हैं। याद रहे कि क़ब्ल अज़ीं 6 माह हिंद..न्यूज़ीलैंड क्रिकेट मैच के मौक़ा पर बंद-ओ-बस्त पर मामूर पुलिस अमले को गज़ा-ए-की फ़राहमी के लिए हैदराबाद की एक मुक़ामी फ़र्म को ठेका दिया गया था जिस का बिल तकरीबन 18-19 लाख रुपये हुआ था।

एसोसिएशन ने पहली क़िस्त के तौर पर मुबय्यना तौर पर तकरीबन 5-6 लाख रुपये जारी किए थे और हनूज़ तकरीबन 1.93 लाख रुपये अदा शदनी थे। एसोसिएशन के ख़ाज़िन गुज़शता दिनों जब जुनूबी अफ्रीका के दौरा पर थे तो मज़कूरा फ़र्म के नाम माबक़ी रक़म Rtgs के ज़रीया मुंतक़िल की गई थी जिस पर ख़ाज़िन ने वापसी पर उन की दस्तख़त के बगैर क़वाइद की ख़िलाफ़वरज़ी करते हुए रक़म की मुंतक़ली पर उप्पल पुलिस स्टेशन में एक शिकायत दर्ज करवाई थी। बताया जाता है कि बैंक हुक्काम ने रुकमी मुआमलत के लिए दो लाज़िमी दस्तख़त की बजाय सिर्फ़ एक दस्तख़त और सैक्रेटरी के कहने पर रक़म मुंतक़िल करदी थी जो बैंक क़वानीन और एसोसिएशनके क़वाइद के मुग़ाइर है। समझा जाता है कि ख़ाज़िन को मज़कूरा शिकायत से दसतबरदारी इख़तियार करने दबाव‌ डालने एक हरबे के तौर पर जाली चेक्स की इजराई की साज़िश रची गई है।

मालूम हुआ है कि इस शिकायत पर उप्पल पुलिस ने एसोसिएशन के एकाऊंटैंट के सथ 6 मुलाज़िम को हिरासत में ले लिया था और इबतिदाई तहक़ीक़ के बाद 4 मुलाज़मीन को हिरासत में रखा है। इस ताज़ा सूरत-ए-हाल का जायज़ा लेने एसोसी उष्ण की आमिला का इजलास भी मुनाक़िद हुआ जिस में ये फैसला किया गया कि बैंक को ये मश्वरा दिया जाये कि फ़िलफ़ौर एसोसी उष्ण के खाता को मुंजमिद करदिया जाये ताकि कोई गैर मजाज़ शख़्स इस एकाऊंट से रुकमी मुंतक़ली ना कर पाए। बताया जाता है कि हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन के एक ही नंबर के दो चेक्स के चेक बक्स बैंक को वापिस कर दीए गए हैं।

TOPPOPULARRECENT