Sunday , December 17 2017

हैदराबाद में आलमी उर्दू कांफ्रेंस के इनइक़ाद से चीफ़ मिनिस्टर का इत्तेफ़ाक़

कांग्रेस के रुकन क़ानूनसाज़ कौंसिल मुहम्मद फ़ारूक़ हुसैन की नुमाइंदगी पर चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के चंद्रशेखर राव‌ ने हैदराबाद में बड़े पैमाने पर आलमी उर्दू कांफ्रेंस सरकारी तौर पर मुनाक़िद करने से इत्तेफ़ाक़ किया है। मुहम्मद फ़ारूक़

कांग्रेस के रुकन क़ानूनसाज़ कौंसिल मुहम्मद फ़ारूक़ हुसैन की नुमाइंदगी पर चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के चंद्रशेखर राव‌ ने हैदराबाद में बड़े पैमाने पर आलमी उर्दू कांफ्रेंस सरकारी तौर पर मुनाक़िद करने से इत्तेफ़ाक़ किया है। मुहम्मद फ़ारूक़ हुसैन ने अपनी याददाश्त में बताया कि उर्दू दां तबक़ा ने अलाहिदा तेलंगाना रियासत तहरीक में कलीदी रोल अदा किया और साथ ही 2014 के आम चुनाव में टी आर एस पर मुकम्मिल एतेमाद का इज़हार किया है।

इस आलमी उर्दू कांफ्रेंस में बैरूनी ममालिक के 30 और हिंदुस्तान के 150 मंदूबीन को दावत दी जाये। इस कांफ्रेंस पर तक़रीबन 75 लाख ता एक करोड़ रुपये के मसारिफ़ है। फ़ारूक़ हुसैन की इस नुमाइंदगी पर चीफ़ मिनिस्टर तेलंगाना के चंद्रशेखर राव‌ ने हमदर्दाना रद्द-ए-अमल का इज़हार करते हुए कहा कि वो उर्दू ज़बान का बहुत एहतेराम करते हैं। उन के बुज़ुर्ग उर्दू ज़बान से अच्छी तरह वाक़िफ़ थे। उर्दू हैदराबादी में पैदा हुई दिल्ली में पली बड़ी और लखनऊ में जवान हुई है।

हैदराबाद में आलमी उर्दू कांफ्रेंस के इनइक़ाद के लिए वो पूरी तरह तैयार है। इस पर एक करोड़ रुपये की बात ही किया है अगर दो करोड़ रुपये भी ख़र्च हूँ तो हुकूमत इस का एहतेमाम करने के लिए तैयार है।

TOPPOPULARRECENT