Sunday , December 17 2017

हैदराबाद में आग़ा ख़ान एकेडेमी का इफ़्तेताह

आग़ा ख़ान एकेडेमी हैदराबाद का आज रस्मी इफ़्तेताह शीआ के सदर नशीन आग़ा ख़ान डेवलपमेंट नेट वर्क प्रिंस शाह करीम उल-हुसैनी आग़ा ख़ान के हाथों वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल डक्टर एम एम पल्लम राजू और चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी की मौजूदगी में अम

आग़ा ख़ान एकेडेमी हैदराबाद का आज रस्मी इफ़्तेताह शीआ के सदर नशीन आग़ा ख़ान डेवलपमेंट नेट वर्क प्रिंस शाह करीम उल-हुसैनी आग़ा ख़ान के हाथों वज़ीर फ़रोग़ इंसानी वसाइल डक्टर एम एम पल्लम राजू और चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी की मौजूदगी में अमल में आया।

इस मौके पर प्रिंस आग़ा ख़ान ने कहा कि आज से 7 साल पहले अज़ीम वादों और बड़ी तवक़्क़ुआत के साथ इस एकेडेमी का संग बुनियाद रखा गया था और आज वो फिर इसी मुक़ाम पर उसकी ताबीर देख रहे हैं।

उन्होंने कहा कि एकेडेमी के क़ियाम के लिए जगह का इंतिख़ाब कठिन मरहला था मगर हुकूमत ने हमें जगह अलॉट की है। हमारा मक़सद नए अज़हान को आलमी क़ियादत के हामिल बनाना है और अख़लाक़ी क़ाइदीन पैदा करना है जिन में शहरी ज़िम्मा दारीयों का क़वी एहसास हो।

उन्होंने बताया कि आग़ा ख़ान डेवलपमेंट नेट वर्क 14 ममालिक में इसी 18 एकेडेमियां क़ायम करने का मंसूबा बनाया है। मुंबई के बाद हैदराबाद की दूसरी एकेडेमी है जो कारकरद होगई है।

उन्होंने कहा कि यहां अक़ामती स्कूल के नज़रिये के साथ तालीम का एक नया माहौल पैदा किया जाएगा। डक्टर पल्लम राजू ने कहा कि तालीम को बुनियादी हक़ क़रार देने के बाद अब ज़ाइद अज़ 230 मिलियन बच्चों का स्कूलस में इंदिराज है।

हुकूमत ने पिछ्ले चंद बरसों में तालीम के मैदान में गुंजाइश को बढ़ाने की कोशिशें कीं और इस में बड़ी हद तक कामयाबी हासिल की । अभि बहुत सी कामयाबियां हासिल करना है।

चीफ मिनिस्टर किरण कुमार रेड्डी ने कहा कि फ़ी ज़माना हुसूल-ए-इल्म का बुनियादी मक़सद फ़रामोश होगया है। उन्होंने कहा कि तालीम हमें सहीह फैसला करने ताक़त अता करती है और शख्सियत साज़ी में मदद देती है।

उन्होंने कहा कि आज-कल स्कूलस में खेल कूद पर तवज्जा नहीं दी जाती जबकि ये ज़रूरी है। उन्होंने कहा कि कम निशानात के हुसूल पर इंटर और एस एस सी के तलबा ख़ुदकुशी करने लगे हैं।

अगर स्कूलस में स्पोर्टस को फ़ौक़ियत दी जाये तो इन में कामयाबी और शिकस्त दोनों का सामना करने का जज़बा पैदा होता है और शिकस्त पर मायूसी पैदा नहीं होती।

TOPPOPULARRECENT