Sunday , January 21 2018

हैदराबाद में तूफ़ानी बारिश और तेज़ हवाएं

ट्रैफ़िक जाम ,सड़कें झील में तबदील , शहर तारीकी में ग़र्क़ , मकानात में पानी दाख़िल , बलदी अमला ग़ाफ़िल

ट्रैफ़िक जाम ,सड़कें झील में तबदील , शहर तारीकी में ग़र्क़ , मकानात में पानी दाख़िल , बलदी अमला ग़ाफ़िल
हैदराबाद । /3 जुलाई ( सियासत न्यूज़) शहर में आज ज़बरदस्त धुआँ धार बारिश के सबब आम ज़िंदगी मफ़लूज होगई और शहर की अहम सड़कें झील में तबदील होगई जिस की वजह से ट्रैफ़िक का निज़ाम दिरहम ब्रहम होगया । सड़कों पर घुटने बराबर पानी जमा होने से कई मोटर गाड़ियां फंस गई। मोटर सवारों को मुश्किलात का सामना करना पड़ा । मौसम बरसात की पहली ज़बरदस्त बारिश से नशीबी इलाक़ों में वाक़्य कई मकानात में पानी दाख़िल होगया और शहर के कई इलाक़े बिलख़सूस पुराना शहर तारीकी में डूब गया । बर्क़ी सरबराही कई घंटों तक मुतास्सिर होने के सबब मुक़ामी अवाम ने सब स्टेशनस पर पहुंच कर महिकमा बर्क़ी के ओहदेदारों की लापरवाही के ख़िलाफ़ एहतिजाज किया । बारिश आज शाम 7.30 बजे से शुरू हुई और तक़रीबन दो घंटे तक शिद्दत से जारी रही जिस के बाइस शहर में 3 सनटी मीटर की बारिश रिकार्ड की गई । महिकमा आ बरसानी के बमूजब आज की बारिश मौसम बरसात की सब से तेज़ रफ़्तार और ज़बरदस्त बारिश थी । इस बारिश के नतीजा में शहर के 14 अहम सड़कों दिलसुख नगर , चादर घाट रेलवे बरीज , गंगा बाओली , काच्चि गौड़ा , ख़ैरीयत आबाद चौराहा , लाल बंगला अमीर पेट , वला मेरी कॉलिज सोमाजी गौड़ा , मॉडल हाओज़ पंजा गट्टा , यूसुफ़ गौड़ा चैकपोस्ट , रानीगंज , कर्बला मैदान और पुराने शहर में चारमीनार , ख़लवत , हुसैनी इलम , काले पत्थर , दुबैर पूरा , पुरानी हवेली , याक़ूत पूरा , तालाब कटा , चंदरायन गट्टा , वटे पली फ़लक नुमा , बहादुर पूरा किशन बाग़ और कई इलाक़े मुतास्सिर रहे। बारिश से ऐन क़बल तेज़ हवाएं चलने के सबब कई बर्क़ी तार टूट गए जिस की वजह से इलाक़ा क़दीम मुलक पेट , आज़म पूरा, दुबैर पूरा , मुग़ल पूरा और बहादुर पूरा , किशन बाग़ , हुस्न नगर में तारीकी छागई । अवाम ने मुताल्लिक़ा महिकमा बर्क़ी के एमरजैंसी कंट्रोल रुम से रब्त पैदा करने की कोशिश की लेकिन नाकाम रहे और अमला बर्क़ी बहाल करने से क़ासिर रहा । बहादुर पूराता किशन बाग़ डरेंज का निज़ाम दरुस्त ना होने की वजह से कई मकानात और दुक्का नात में पानी घुस गया इस के इलावा शहर के कई इलाक़ों में 8 बजे बर्क़ी सरबराही मुनक़ते होने के बाद रात देर गए तक भी बहाल ना होसकी । दफ़्तर सियासत को बेशुमार टेलीफ़ोन कालिस मौसूल हुए जिस में बलदी अमला की लापरवाही के इलावा मकानात में पानी घुस जाने से मुश्किलात की शिकायत की गई

TOPPOPULARRECENT