Wednesday , December 13 2017

हैदराबाद में शुरू हुआ ‘मदर्स मिल्क बैंक’, नवजात शिशुओं को दूध उपलब्ध कराने का है लक्ष्य

हैदराबाद की एक सरकारी अस्पताल ने मिसाल कायम की है। इससे पहले आप अस्पतालों में ब्लड बैंक होने के बारे में सुना होगा या पढ़ा होगा लेकिन हैदराबाद के एक सरकारी हॉस्पिटल एक कदम आगे निकलते हुए मानव दुग्ध बैंक की शुरुआत की है।

हैदराबाद स्थित सरकारी हॉस्पिटल निलोफर ने शुक्रवार को तेलंगाना के सार्वजनिक क्षेत्र के पहले मानव दुग्ध बैंक का उद्घाटन किया गया। इस स्वास्थ्य सेवा के माध्यम से राधात्री मदर्स मिल्क बैंक ऐसे नवजात शिशुओं को दूध उपलब्ध कराएगा जिन्हें किसी कारणवश अपनी मां का दूध नहीं मिल सका।

इस अवसर पर हैदराबाद पहुंची स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल ने शुक्रवार को इस मदर्स बैंक का उद्घाटन किया। स्वास्थ्य राज्य मंत्री ने इस दौरान ‘मां’-मदर ऐब्सॉल्यूट अफेक्शन कार्यक्रम की शुरुआत भी की।

बता दें कि सरकार की ओर से यह कार्यक्रम में मां को दूध पिलाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शुरू किा गया है। कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए अनुप्रिया पटेल ने कहा कि यह दुख की बात है कि नवजात शिशुओं की मौत के मामले में भारत काफी आगे है।

उन्होंने बताया कि यदि आंकड़ों पर गौर किया जाए तो पूरी दुनिया में मरने वाले कुल नवजात शिशिुओं में करीब 30 प्रतिशत बच्चे भारतीय हैं।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री ने इस मौके पर सरकार की उपब्धियां गिनाते हुए बताया कि केंद्र सरकार इस मामले में बहुत संवेदनशील है और नवजात शिशुओं मृत्युदर में कमी लाने के लिए कई महत्वपूर्ण योजनाएं शुरू की गई हैं।

TOPPOPULARRECENT