हैदराबाद GHMC इलाके में 3 जुलाई से लग सकता है लॉकडाउन, ये है प्लान

हैदराबाद GHMC इलाके में 3 जुलाई से लग सकता है लॉकडाउन, ये है प्लान

हैदराबाद: तेलंगाना की केसीआर सरकार एक बार फिर हैदराबाद GHMC इलाके में कड़े लॉकडाउन लागू करने की तैयारी में है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक 3 जुलाई से GHMC एरिया में बंदी का एलान किया जा सकता है। इस बारे में बुधवार या फिर गुरुवार को कैबिनेट मीटिंग में मुहर लगाई जा सकती है। इस बीच अधिकारियों को लॉकडाउन की रूपरेखा संबंधी रिपोर्ट तैयार करने में लगाया गया है।

हैदराबाद GHMC लॉकडाउन को लेकर मंथन जारी

लॉकडाउन के चलते आर्थिक व्यवस्था के ठप पड़ने और नुकसान के मद्देनजर सरकार की कोशिश है कि कम से कम नुकसान हो। इसके चलते वरीय अधिकारियों की टीम अध्ययन में जुटी है। अकेले हैदराबाद में लगातार कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने लॉकडाउन को लेकर खुला संकेत पहले ही दे दिया है। बस औपचारिक एलान होना बाकी है।

हैदराबाद GHMC इलाके के कन्टेनमेंट जोन में कड़ी पाबंदी

लॉकडाउन के दौरान बाहरी लोगों के हैदराबाद GHMC इलाके में नियंत्रित प्रवेश की अनुमति दी जा सकती है। खासकर कन्टेनमेंट जोन में सख्त पाबंदी लगाए जाने की उम्मीद है। कन्टेनमेंट जोन में लोगों को दिक्कत न हो लिहाजा जरूरी सामानों की आपूर्ति के लिए जन वितरण प्रणाली और डोर टू डोर डिलिवरी की व्यवस्था दुरुस्त की जा सकती है। दूध और जरूरी सामानों को मुहैया कराने के लिए कुछ घंटों की छूट मिल सकती है। राशन और मेडिकल सेवाओं को नियत समय के लिए खोलने की इजाजत दी जा सकती है। खासकर कन्टेनमेंट जोन में आवाजाही पर स्थानीय प्रशासन और पुलिस की कड़ी नजर होगी। बारिश के मौसम को देखते हुए प्रभावित इलाकों में कोरोना संक्रमण को लेकर सरकार डोर टू डोर अभियान भी चला सकती है। सरकार को पता है कि अगर कन्टेनमेंट जोन में हालात नियंत्रित कर लिये गए तो समस्या को सुलझाना आसान होगा।

बाजार और भीड़ भाड़ वाले इलाकों पर नजर 

हैदराबाद GHMC इलाके में पड़ने वाले ओल्ड सिटी को लेकर सरकार की चिंताएं अधिक हैं। बता दें कि चारमीनार इलाके के कई मार्केट व्यापारियों ने खुद फैसला लेकर बंद कर दिया है। ऐसे में सरकार भी साथ देगी और बाजारों में भीड़ न जुटने को लेकर कड़े नियम बनाएगी। इस बार लॉकडाउन चस्पा करने को लेकर सरकार लोगों की भावनाएं समझने की कोशिश करेगी। व्यापारियों को कम से कम नुकसान हो इसका भी खयाल रखा जाएगा।

Top Stories