Tuesday , December 12 2017

होंगी 972 तकर्रुरियां

रियासत में 972 ब्लॉक महि (मछ्ली) बाज़ी ओहदेदारों और महि मुबसिरिन की बहाली होगी। तमाम ओहदों पर सैलरी के तहत बकायदा बहाली होगी। ब्लॉक महि बाज़ी ओहदेदार (बीएफइओ) के लिए कम अज़ कम काबलियत बीएससी फिशरीज (बीएफएससी) होगा। इंडस्ट्रियल फिशर

रियासत में 972 ब्लॉक महि (मछ्ली) बाज़ी ओहदेदारों और महि मुबसिरिन की बहाली होगी। तमाम ओहदों पर सैलरी के तहत बकायदा बहाली होगी। ब्लॉक महि बाज़ी ओहदेदार (बीएफइओ) के लिए कम अज़ कम काबलियत बीएससी फिशरीज (बीएफएससी) होगा। इंडस्ट्रियल फिशरीज में ग्रेजुएशन मछ्ली मुबसीर बनाये जायेंगे। जानवर और मछ्ली वसायल महकमा ने फिशिंग ओहदेदारों की बहाली के लिए तजवीज तैयार कर लिया है। कैबिनेट से मंजूरी के बाद अमल शुरू होगी।

शुमाली बिहार के तमाम अजला और जुनूबी और दरमियाने बिहार के तीन अजला में बहाली होगी। मछली पैदावारी वाले अजला के वैसे ब्लॉक में इन ओहदेदारों की तकररूरी होगी, जहां मछली पैदावारी बढ़ाने की पूरा एम्कान है। ब्लॉक फिश बाज़ी ओहदेदार और ब्लॉक फिश मुबसिरिन का मुंतखिब बिहार रियसती मुलाज़मीन मुंतखिब कमीशन या बीपीएससी के जरिये से होना है।

ब्लॉक मछ्ली बाज़ी ओहदेदार को फी महीने करीब 25 हजार और मुबसिरे को करीब 20 हजार रुपये तंख्वाह मिलेंगे। सरकारी ओहदेदारों और मुलाज़मीन को मिलनेवाली तमाम सहूलतें भी मिलेंगी। मूआह्दे पर 100 मछ्ली बाज़ ओहदेदारों की बहाली दो साल पहले शुरू हुई थी, लेकिन 65 की ही बहाली हो सकी थी। अब बकायदा बहाली होने की हालत में मूआह्दे वाले मछ्ली बाज़ ओहदेदारों की खिदमत खत्म हो जायेगी।

TOPPOPULARRECENT