Wednesday , January 17 2018

क़त्ल की धमकी के बाद गिरीश कर्नाड ने मांगी माफी

बेंगलुरू: ज्ञानपीठ पुरस्कार से एजाजयाफ्ता ड्रामा निगार और अदाकार गिरीश कर्नाड को टीपू सुल्तान का मुकाबला शिवाजी से करना महंगा पड रहा है। पहले तो उनके खिलाफ भाजपाई कारकुन सडक पर उतर आए और अब उनको कन्नड मुसन्निद एमएम कुलबर्गी की तरह जान से मारने की धमकी मिली है। कर्नाड को टि्वटर पर धमकी दी गई है कि उनका भी वही हाल होगा जो कलबुर्गी का हुआ था।

गौरतलब है कि कलबुर्गी का अगस्त में क़त्ल कर दिया गया था । हालांकि धमकी के बाद कर्नाड ने बुध के रोज़ बेंगलुरू में एक बयान जारी कर कहा कि उन्होंने जो भी कहा, वह उनका ज़ाती राय था। उन्होंने कहा कि इसके पीछे कोई बदनियती नहीं थी। अगर किसी को तकलीफ पहुंचती है तो मैं माफी मांगता हूं। कर्नाड के खिलाफ भाजपाइयों ने कर्नाटक में जगह-जगह मुज़ाहिरा किया।

कर्नाड ने मंगल के रोज़ बेंगलुरू में कहा था कि 18वीं सदी के मैसूर के हुक्मरान टीपू सुल्तान अगर हिंदू होते तो उन्हें मराठा हुक्मरान छत्रपति शिवाजी के बराबर दर्जा मिलता। अगर टीपू हिंदू होते तो उनका भी कद शिवाजी की तरह होता। कर्नाड ने मांग की थी कि बेंगलुरू के इंटरनेशनल एयरपोर्ट का नाम टीपू के नाम पर रखा जाए।

फिलहाल इसका नाम विजयनगर के हुक्मरान रहे केंपेगौडा के नाम पर है। कर्नाड ने टीपू की जयंती पर मुनाकिद प्रोग्राम में यह बात कही थी। प्रोग्राम में सीएम सिद्धरमैया भी मौजूद थे। कर्नाटक सरकार टीपू की 265वीं सालगिरह मना रही है।

TOPPOPULARRECENT