क़ादियानियत से मुतास्सिरा इलाक़ों में मसाजिद की तामीर

क़ादियानियत से मुतास्सिरा इलाक़ों में मसाजिद की तामीर
निज़ामाबाद, 02 फरवरी : मजलिसे तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत अलहम्दुलिल्लाह गुज़िश्ता 7 सालों से मुख़्तलिफ़ इलाक़ों बिलखुसूस क़ादियानियत से मुतास्सिरा इलाक़े जात में इशाअतुल‌ उलूम दीनी तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत पर जंगी पैमाने पर ख़िदमात अंजा

निज़ामाबाद, 02 फरवरी : मजलिसे तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत अलहम्दुलिल्लाह गुज़िश्ता 7 सालों से मुख़्तलिफ़ इलाक़ों बिलखुसूस क़ादियानियत से मुतास्सिरा इलाक़े जात में इशाअतुल‌ उलूम दीनी तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत पर जंगी पैमाने पर ख़िदमात अंजाम देती चली आरही है।

इन ख़्यालात का इज़हार हज़रत मौलाना मुफ़्ती सय्यद अकबर क़ासिमी सदर मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत ज़िला निज़ामाबाद-ओ-इमाम-ओ-ख़तीब जामा मस्जिद ने अपने एक सहाफ़ती आलामीया में किया और बताया कि 205 देहातों में तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत की जानिब से अइम्मा किराम का नज़म किया गया है जो इमाम के इलावा मकातिब देने में अपनी ख़िदमात अंजाम दे रहे
हैं।

आरमोर बोधन बचकनदा कामा रेड्डी भय मुगल ओटनोर मनचरयाल काग़ज़ नगर ज्योति( ज़िला चंद्रा पुर महाराष्ट्रा) बड़ी की उम्र ख़वातीन और लड़कियों के अंदर दीनी शऊर बेदार करने के लिए शहर के सल्लम मुहल्ला जात क़स्बा जात में 10 तालीम निसवां सैंटर का क़ियाम अमल में लाया गया। मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत की हालिया कामयाब कोशिश से माह नवंबर में एक का दयानी सदर की नवासी और माह दिसंबर में एक कादियानती पण्डित ने इस्लाम क़ुबूल किया।

मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत की जानिब से 36 ऐसे मुक़ामात जहां पर मसाजिद नहीं थीं मसाजिद तामीर कराई गई। मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत के माहाना अख़राजात 4,70,000 रुपये हैं जो अलहम्दुलिल्लाह अहले ख़ैर हज़रात की इआनतों से तकमील पाते हैं।

मुफ़्ती सय्यद अकबर ने मज़ीद बताया कि मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत निज़ामाबाद के ज़ेरे एहतिमाम 2 फरवरी बरोज़ हफ़्ता 9बजे शब बमुक़ाम अबदुर्रहमान ग्राउंड निज़द परेसिडंट पलाज़ा फंक्शन हाल बोधन रोड पर एक अज़ीमुश्शान जल्सा-ए-आम सीरत ख़ातिमुल अम्बिया, ज़ेरे सदारत मौलाना मुफ़्ती मुहम्मद अबदुलमुग़नी मज़ाहरी नायब सदर मजलिस तहफ़्फ़ुज़ ख़त्म नबुव्वत ए पी इनइक़ाद अमल में लाया जा रहा है।

इस मौक़े पर मेहमानान ख़ुसूसी की हैसियत से हज़रत मौलाना मुहम्मद अबदुलअली फ़ारूक़ी मुहतमिम जामिआ फ़ारोक़िया काकोरी लखनऊ हज़रत मौलाना अब्बू मुआवीया मुहम्मद अबदुर्रहीम फ़ारूक़ी शेखुलहदीस जामिआ हज़रत सय्यदना बिलाल लखनऊ हज़रत ख़्वाजा मुहम्मद नज़ीरुद्दीन नाज़िम मदरसा आईशा निस्वान हैदराबाद शिरकत-ओ-ख़िताब करेंगे।

प्रोग्राम का आग़ाज़ मशहूर-ओ-मारूफ़ क़ारी हज़रत मौलाना मुहम्मद उम्र करनूल की तिलावते कलाम पाक से होगा। उम्मातुलमुस्लिमीन से गुज़ारिश है कि सीरत के इस बाबरकत जल्सा-ए-आम में शिरकत करके जलसे को कामयाब बनाएं।

Top Stories