Tuesday , December 19 2017

क़ुतुब शाही दौर का सेकुलरिज्म सारे हिंदुस्तान के लिए अज़ीम मिसाल

दास्तान गोलकेंडा जैसे ड्रामे लव जिहाद घर वापसी जैसे नारे लगाने वाले फ़िर्कापरस्ती ताक़तों के मुंहतोड़ जवाब हैं इस किस्म के ड्रामों की सी डीज़ क़ौमी यकजहती और फ़िर्क़ावराना हम आहंगी के मर्कज़ी इदारों को रवाना किया जाना चाहीए ताके क़ौ

दास्तान गोलकेंडा जैसे ड्रामे लव जिहाद घर वापसी जैसे नारे लगाने वाले फ़िर्कापरस्ती ताक़तों के मुंहतोड़ जवाब हैं इस किस्म के ड्रामों की सी डीज़ क़ौमी यकजहती और फ़िर्क़ावराना हम आहंगी के मर्कज़ी इदारों को रवाना किया जाना चाहीए ताके क़ौमी सतह पर बढ़ते फ़िर्कापरस्ती के ख़तरात से मुक़ाबला किया जा सके।

मुदीरा अली रोज़नामा सियासत वसदर फाइन आर्टस एकेडेमी ज़ाहिद अली ख़ान ने इन ख़्यालात का इज़हार किया। रवींद्र भारती में फाइन आर्टस एकेडेमी के ज़ेरे एहतेमाम दीखाए जाने वाला ड्रामा दास्तान गोलकेंडा के मौके पर मुनाक़िदा तक़रीब से सदरहती ख़िताब के दौरान ज़ाहिद अली ख़ान दास्तान गोलकेंडा की सी डीज की तैयारी और उस को क़ौमी यकजहती और फ़िर्क़ावराना हम आहंगी फ़रोग़ के क़ौमी इदारों तक पहुंचाने में मुम्किन तआवुन काभी वादा किया।

डिप्टी चीफ़ मिनिस्टर अल्हाज मुहम्मद महमूद अली सदर नशीन तेलंगाना उर्दू एकेडेमी एसए शकूर क़मरुद्दीन ने भी इस तक़रीब में शिरकत की। क़बल इज़ाएं फाइन आर्टस एकेडेमी की पेशकश दास्तान गोलकेंडा पेश करते हुए क़ुतुब शाही हुकमरानों की जज़बे मुहब्बत ईसार क़ुर्बानी और ग़ैर मुस्लिम सिपहसालारों के साथ अपनी वालहाना मुहब्बत के जज़बाती मुनाज़िर भी पेश किए।

मारूफ़ गुलूकार ख़ान अतहर ने अपनी सुरीली आवाज़ में क़ुतुब शाही दौर के नग़मे पेश किए जबकि मुमताज़ शायर असलम फ़िरौ शौरी ने तक़रीब की कार्रवाई चलाई।

ज़ाहिद अली ख़ान ने सिलसिला ख़िताब जारी रखते हुए कहा कि दास्तान गोलकेंडा में क़ुतुब शाही दौर के तमाम हुकमरानों की दास्तानें क़िस्तों में तैयार करते हुए इंटरनेट के ज़रीये सारी दुनिया में फैला जा सकता है। उन्होंने इस के लिए सियासत की वैब साईट के मुकम्मिल तआवुन का भी एलान किया जिस का दो लाख से ज़ाइद लोग हर माह मुशाहिदा करते हैं।

ज़ाहिद अली ख़ान ने क़ुतुब शाही दौरे हुकमरानों के सेकुलरिज्म को सारे मुल्क के लिए एक मिसाल क़रार देते हुए कहा कि हिंदुस्तान हमा इक़साम के फूलों का एक गुलदस्ता है जिस का एक भी फूल मुरझा जाये या ख़राब होजाए तो इस का असर पूरे गुलदस्ते पर पड़ेगा।

ज़ाहिद अली ख़ान ने फाइन आर्टस एकेडेमी के मास्टर शफ़ी और उनके साथीयों को इस मौके पर मुबारकबाद पेश करते हुए दास्तान गोलकेंडा को क़दीम हैदराबादी गंगा जमुनी तहज़ीब का गहवारा क़रार दिया जिस की पूरे मुल्क को ज़रूरत है।

मुहम्मद महमूद अली ने इस मौके पर ख़िताब करते हुए फाइन आर्टस एकेडेमी की पेशकश दास्तान गोलकेंडा की सताइश करते हुए हुकूमत तेलंगाना के मुजव्वज़ा जश्न तेलंगाना में दस्तान गोलकेंडा को शामिल करने का वादा किया। इस मौके पर उन्होंने रियासती उर्दू एकेडेमी को गंगाजमनी तहज़ीब पर मबनी मुस्लिम हुकमरानों के तारीख़ी वाक़ियात पेश करने वाले कलाकारों-ओ-फ़नकारों की और उन को एकेडेमी की तरफ से इमदाद फ़राहम करने की तजवीज़ पेश की ताके रियासत तेलंगाना की क़दीम गंगा जमुना तहज़ीब को इस्तिहकाम मिल सके।

मुहम्मद महमूद अली ने मुग़ले आज़म की तर्ज़ पर क़ुतुब शाही हुकमरानों के तारीख़ी वाक़ियात पर मबनी फ़िल्म हुकूमत तेलंगाना की तरफ से तैयार करने का भी एलान किया। उन्होंने कहा कि हुकूमत तेलंगाना क़ुतुब शाही और आसिफ़ जाहि हुकमरानों के तारीख़ी कारनामों को कभी फ़रामोश नहीं कर सकती।

बादअज़ां ज़ाहिद अली ख़ान और मुहम्मद महमूद अली के हाथों दास्तान गोलकेंडा के फ़नकारों को तहनियत और फाइन आर्टस एकेडेमी की सनद से भी नवाज़ा गया। अवाम की कसीर तादाद ने भी दस्तान गोलकेंडा का मुशाहिदा किया।

TOPPOPULARRECENT