Sunday , December 17 2017

क़ुरआन मजीद हिफ़्ज़ ना करने पर मौत के घाट उतारने वाली माँ को उम्र क़ैद

लंदन, 08 जनवरी ( पीटीआई) हिंदूस्तानी नज़ाद एक ख़ातून को जिसने अपने 7 साला लड़के को हिफ़्ज़ क़ुरआन मजीद में नाकामी पर शदीद ज़द्द-ओ-कूब किया और उसे हलाक करने के बाद शवाहिद ( सबूत) को मिटाने की कोशिश की थी अदालत ने आज सज़ाए उम्र क़ैद सुनाई। 33साला

लंदन, 08 जनवरी ( पीटीआई) हिंदूस्तानी नज़ाद एक ख़ातून को जिसने अपने 7 साला लड़के को हिफ़्ज़ क़ुरआन मजीद में नाकामी पर शदीद ज़द्द-ओ-कूब किया और उसे हलाक करने के बाद शवाहिद ( सबूत) को मिटाने की कोशिश की थी अदालत ने आज सज़ाए उम्र क़ैद सुनाई। 33साला ख़ातून सारा आज अदालत में सज़ा का फ़ैसला सुनाए जाने पर ग़श खाकर गिर पड़ी।

उन्हें बताया गया कि 17साल जेल में गुज़ारने के बाद पेरोल पर रिहाई के लिए ग़ौर किया जा सकता है । सारा का ताल्लुक़ हिंदूस्तान से है और वो रियाज़ी में ग्रेजूएट हैं। उन्होंने अपने लड़के यसीन को बुरी तरह ज़द्द-ओ-कूब करके ना सिर्फ़ हलाक किया बल्कि जिस्म पर एक तरह लेप लगाकर हक़ीक़त को मख़फ़ी रखने की कोशिश की थी। ये वाक़िया जुलाई 2010 में पेश आया था ।

TOPPOPULARRECENT