Thursday , December 14 2017

क़ौमी इत्तेहाद को हमेशा मुक़द्दम रखा जाए:वज़ीर-ए-आज़म

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि पार्लीमेंट के मुबाहिस के दौरान पैदा होने वाली कशीदगी का अक्सर मुल्क के इत्तेहाद और यकजहती पर मुरत्तिब नहीं होना चाहीए। राज्य सभा के सबकदोश होने वाले अरकान को विदा करते हुए उन्होंने कहा कि ये अरक

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह ने आज कहा कि पार्लीमेंट के मुबाहिस के दौरान पैदा होने वाली कशीदगी का अक्सर मुल्क के इत्तेहाद और यकजहती पर मुरत्तिब नहीं होना चाहीए। राज्य सभा के सबकदोश होने वाले अरकान को विदा करते हुए उन्होंने कहा कि ये अरकान मुख़्तलिफ़ हैसियतों में मुल़्क की ख़िदमत जारी रखेंगे क्योंकि वो अवामी खिदमतगार हैं।

उन्होंने कहा कि मुख़्तलिफ़ मसाइल पर मुबाहिस होते हैं जिन के दौरान कशीदगी भी पैदा होती है जो सतह पर भी आ जाती है। बाअज़ औक़ात ऐवान के तमाम अरकान के पोशीदा जज़बात भी होते हैं, लेकिन बहरहाल मुल्क के इतेहाद और यकजहती को बरक़रार रखा जाना चाहीए। उन्होंने शायर-ए-मशरिक़ अल्लामा इक़बाल का एक शेर भी सुनाया कि

यूनान-ओ-मिस्र-ओ-रोम सब मिट गए जहां से
बाक़ी मगर है अब तक नाम-ओ-निशां हमारा
कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं
हमारी सदीयों रहा है दुश्मन दूर ज़माना हमारा

उन्होंने कहा कि जब भी मुबाहिस होते हैं हमारे ज़हन में यही बात होनी चाहीए कि ये अज़ीम मौक़ा है जिसके ज़रीया हम मुल्क की ख़िदमत कर सकते हैं। उन्होंने सबकदोश होने वाले अरकान को नेक ख़ाहिशात पेश करते हुए उम्मीद ज़ाहिर की कि वो दूसरी मीयाद के लिए ऐवान में दुबारा वापस आ जायेंगे। सबकदोश होने वाले राज्य सभा अरकान ने पारलीमानी कार्रवाई में बार बार रुकावट पैदा होने और ऐवान का क़ीमती वक़्त ज़ाए होने पर तशवीश ज़ाहिर करते हुए ख़ाहिश की कि इस्लाही अमल फ़ौरी किया जाए और इस बात को यक़ीनी बनाया जाए कि ऐवान और इसके अरकान का वक़ार बरक़रार रहे। बी जे पी के एस एस अहलुवालिया, कांग्रेस के वपीलो ठाकुर, समाजवादी पार्टी के महेन्द्र मोहन, कांग्रेस की सुशीला त्रिया और राशिद अलवी ने भी ख़िताब किया।

TOPPOPULARRECENT