क़ज़ाफ़ी के हामीयों की शदीद मुज़ाहमत ,सरते में इन टी सी के जंगजू पीछे हटने पर मजबूर

क़ज़ाफ़ी के हामीयों की शदीद मुज़ाहमत ,सरते में इन टी सी के जंगजू पीछे हटने पर मजबूर

सरत। 30 सितंबर( ए एफ़ पी ) मुअम्मर क़ज़ाफ़ी के कट्टर हामीयों के ताबड़तोड़ हमलों ने लीबिया के नए हुकमरानों के जनगजुवों को माज़ूल लीडर के आबाई टान सरते से पीछे हटने पर मजबूर करदिया जहां एक टैंक शॅल के इत्तिफ़ाक़ीया हमले में तीन जंगजू हलाक होगए

सरत। 30 सितंबर( ए एफ़ पी ) मुअम्मर क़ज़ाफ़ी के कट्टर हामीयों के ताबड़तोड़ हमलों ने लीबिया के नए हुकमरानों के जनगजुवों को माज़ूल लीडर के आबाई टान सरते से पीछे हटने पर मजबूर करदिया जहां एक टैंक शॅल के इत्तिफ़ाक़ीया हमले में तीन जंगजू हलाक होगए । क़ज़ाफ़ी के दीगर बाक़ी गढ़ बनी वलीद में भी वफादारों की तरफ़ से इसी तरह शदीद मुज़ाहमत ने क़ौमी उबूरी कौंसल के जनगजुवों को फ़ैसलाकुन हमला करने से रोक रखा है , एन टी सी के कमांडरों ने ये बात कही और नाटो से फ़िज़ाई मदद में इज़ाफ़ा करने की अपील की । मफ़रूर क़ज़ाफ़ी का अता पता बदस्तूर नामालूम है लेकिन वज़ारत-ए-दिफ़ा के तर्जुमान अहमद बानी ने तरह बुल्स में कहा कि क़ज़ाफ़ी का एक फ़र्ज़ंद सैफ़ उल-इस्लाम बनी वलीद में और एक दीगर फ़र्ज़ंद मुत्तसम सरते में है । अपने वालिद और साबिक़ अनटलीजनस सरबराह अबदुल्लाह अलसीनोसी केसाथ इंसानियत के ख़िलाफ़ जराइम के इल्ज़ाम पर सैफ बैन-उल-अक़वामी फ़ौजदारी अदालत को मतलूब है।

Top Stories