Tuesday , September 25 2018

ख़वातीन का तहफ़्फ़ुज़, करप्शन का ख़ातमा महाराष्ट्र के अवाम की अव्वलीन तर्जीह : सर्वे

एसोसीएशन‌ आफ़ डैमोक्रेटिक रीफार्मस (ADR) एक ग़ैर मुनफ़अत बख़श एन जी ओ दक्ष के साथ एक मुशतर्का सर्वे मुनाक़िद किया गया जो महाराष्ट्र की तमाम अहम हलक़ा जात में मुनाक़िद किया गया था जो 15 अक्टूबर को राय दही में हिस्सा लेंगे।

एसोसीएशन‌ आफ़ डैमोक्रेटिक रीफार्मस (ADR) एक ग़ैर मुनफ़अत बख़श एन जी ओ दक्ष के साथ एक मुशतर्का सर्वे मुनाक़िद किया गया जो महाराष्ट्र की तमाम अहम हलक़ा जात में मुनाक़िद किया गया था जो 15 अक्टूबर को राय दही में हिस्सा लेंगे।

सर्वे 20,000 अफ़राद से बातचीत करके मुकम्मल किया गया जहां इस का नतीजा ये सामने आया कि महाराष्ट्र असेबली इंतेख़ाबात में किसी भी एक पार्टी को वाज़िह अक्सरीयत हासिल नहीं होगी। बी जे पी के हामीयों की भी कमी नहीं है और शिवसेना के चाहने वाले भी करोड़ों में हैं लेकिन दोनों पार्टीयों के इत्तेहाद के टूटने के बाद अवामी राय भी मुनक़सिम होगई है।

जब अवामी राय मुनक़सिम होती है तो वोट भी तक़सीम होंगे। अब देखना ये है कि बी जे पी और शिवसेना के दरमयान कांटे के मुक़ाबले में कांग्रेस का क्या रोल होगा। रियासत के राय दहिंदों को दो हिस्सों में तक़सीम किया गया है (1) नाख़्वान्दा (2) ग्रैजूएटस नई हुकूमत से कुरप्शन के ख़ातमा, ख़वातीन के तहफ़्फ़ुज़, अच्छे स्कूलस, दहश्तगर्दी का ख़ातमा, ट्रैफ़िक निज़ाम में बेहतरी, गै़रक़ानूनी तामीरात पर इमतिना, रोज़गार स्लम‌ इलाक़ों की बाज़ आबादकारी चाहते हैं जबकि नाख़्वान्दा तबक़ा भी कम-ओ-बेश मुंदरजा बाला इस्लाहात का हामी है। ख़ुसूसी तौर पर रोज़गार, करप्शन का ख़ातमे और ख़वातीन का तहफ़्फ़ुज़ उन की फ़हरिस्त में सब से ऊपर हैं।

TOPPOPULARRECENT